मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) पर खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में शतक जमाने वाले भारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने कहा है कि मैच के आने दिनों में इस पिच पर असमान उछाल के चलते बल्लेबाजी कर पाना आसान नहीं होगा. पुजारा ने इस पिच पर 319 गेंदों का सामना किया और 10 चौकों की मदद से 106 रन बनाए.

पुजारा ने कहा, “मैंने इस विकेट पर पहले दिन भी बल्लेबाजी की और दूसरे दिन भी, लेकिन मुझे दूसरे दिन पिच अलग लगी. इस विकेट पर असमान उछाल है. अगर कोई और विकेट होती तो इतनी गेंदों पर मेरे 140 या 150 रन होते.”

पुजारा ने कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर तीसरे विकेट के लिए 170 रनों की साझेदारी की. पुजारा पैट कमिंस की जिस गेंद पर आउट हुए, वह काफी नीची रही थी. पुजारा का यह इस सीरीज में दूसरा शतक है. उन्होंने कहा कि रन बनाने को लेकर उन्हें अपने आप पर हमेशा भरोसा रहता है.

कोहली की आक्रामकता के मुरीद हैं विव रिचर्ड्स, कहा- टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया में जीत की हकदार

पुजारा ने कहा, “मैं जानता था कि मैं रन कर सकता हूं. इस तरह के शतक बनाना हमेशा से अच्छा रहता है. यह एक तरह की गलतफहमी है कि मैंने हमेशा घर में रन बनाए हैं. भारत हमेशा घर में ज्यादा टेस्ट मैच खेलता है, मैंने हमेशा यह कहा है. कई बार चीजें काफी मुश्किल हो जाती हैं, खासकर जब आप विदेशों में खेल रहे होते हैं. वहां रन करना आसान नहीं होता.”

पुजारा ने अपने ‘दाग’ तो धो लिए, लेकिन जीत मिलने तक काम पूरा नहीं

पुजारा ने कहा कि उनका काम रन करना है और वह ऐसा करते रहेंगे. आलोचकों को जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे होते हैं तो आलोचकों की परवाह नहीं करते. पुजारा ने कहा, “मेरा काम रन करना है और मैं ऐसा करता रहूंगा चाहे वह घर में हो या बाहर. कई बार आपकी आलोचना होती है और आपको इसे स्वीकार करना होता है, लेकिन अगर भारत जीतता रहता है तो हर किसी को खुशी होती है.”