भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) बुधवार को सालाना आम बैठक (AGM) में बीसीसीआई (BCCI) के 39वें अध्यक्ष बनेंगे जिससे उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति Committee of Administrators (CoA) का 33 महीने से चला आ रहा शासन खत्म हो जाएगा.

बीसीसीआई पर भड़के हरभजन-युवराज, कहा- विजय हजारे ट्रॉफी में क्‍यों नहीं…

बीसीसीआई अध्यक्ष (BCCI President) पद के लिए गांगुली (Ganguly) का नामांकन सर्वसम्मति से हुआ है जबकि गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय (Union Home Minister Amit Shah’s son Jay) सचिव होंगे. उत्तराखंड के महीम वर्मा नए उपाध्यक्ष (Mahim Verma of Uttarakhand is the new vice-president) होंगे.

बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष और केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) के छोटे भाई अरूण धूमल (Arun Dhumal) कोषाध्यक्ष होंगे जबकि केरल के जयेश जॉर्ज ( Jayesh George) संयुक्त सचिव होंगे.

9 महीने का होगा गांगुली का कार्यकाल

गांगुली (Ganguly) का कार्यकाल नौ महीने का ही होगा और उन्हें जुलाई में पद छोड़ना होगा क्योंकि नए संविधान के प्रावधानों के तहत छह साल के कार्यकाल के बाद ‘विश्राम की अवधि’ अनिवार्य है.

गांगुली बंगाल क्रिकेट संघ के सचिव और बाद में अध्यक्ष Scretary and later President of Cricket Association of Bengal (CAB) पद के अपने अनुभव का पूरा इस्तेमाल करेंगे.

गांगुली के सामने CAC और राष्ट्रीय चयन समिति में अच्छे क्रिकेटरों को लाने की होगी चुनौती

सौरव गांगुली ने कुछ लक्ष्य तय कर रखे हैं जिनमें प्रशासन को ढर्रे पर लाना और प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों के वेतन में बढोतरी शामिल है.

‘हितों के टकराव’ के नियमों के बीच गांगुली के सामने चुनौती क्रिकेट सलाहकार समिति और राष्ट्रीय चयन समिति में अच्छे क्रिकेटरों को लाने की भी होगी. उन्होंने पिछले सप्ताह कहा था, ‘मेरे लिए यह कुछ अच्छा करने का सुनहरा मौका है.’

श्रीनि और निरंजन शाह से निपटने की चुनौती होगी दिलचस्प

दस महीने की अवधि छोटी है और यह भी देखना होगा कि गांगुली बीसीसीआई के पुराने धुरंधरों एन श्रीनिवासन (N. Srinivasan) और निरंजन शाह (Niranjan Shah) से कैसे निपटते हैं जिनके बच्चे अब बीसीसीआई (BCCI) का अंग हैं.

‘बांग्लादेश की टीम दक्षिण अफ्रीका के मुकाबले ज्यादा अनुभवी, टी20 में…’

श्रीनिवासन के विश्वस्त आईपीएल चेयरमैन (IPL Chairman) बृजेश पटेल (Brijesh Patel) से भी उनके संबंध कैसे रहते हैं, यह देखना रोचक है. क्रिकेट नीतियों के अलावा महेंद्र सिंह धोनी (Mahender Singh Dhoni) के भविष्य, दिन-रात (Day-Night) के टेस्ट क्रिकेट और स्थायी टेस्ट केंद्रों पर भी उनका रूख देखना होगा.

‘AGM के दौरान पूरी प्रक्रिया का पालन किया जाएगा’

सीओए प्रमुख विनोद राय (CoA chief Vinod Rai) ने कहा कि एजीएम के दौरान पूरी प्रक्रिया का पालन किया जाएगा.

उन्होंने कहा, ‘पहले पिछले तीन साल के खातों को मंजूरी दी जाएगी. उसके बाद निर्वाचन अधिकारी चुनाव के नतीजे का ऐलान करेंगे क्योंकि सभी निर्विरोध चुने गए हैं. हम सौरव (Sourav) से बात कर शेड्यूल तय करेंगे.’