मेलबर्न: टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने सचिन तेंदुलकर को कई बार नाराज होते देखा है लेकिन महेंद्र सिंह धोनी को नहीं. भारत के मुख्य कोच ने कहा कि ऐसा खिलाड़ी 40 साल में एक बार आता है और उसकी जगह लेना किसी के लिए मुमकिन नहीं है. Also Read - शुबमन गिल ने किया खुलासा- करियर की शुरुआत में हुई इस घटना के बाद खत्म हो गया बाउंसर का डर

Also Read - ऑस्ट्रेलिया पर जीत के बाद कप्तान रहाणे ने कुलदीप यादव की तारीफ की; कहा- आपका टाइम आएगा

37 बरस के धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में 96 गेंद में 51 रन बनाए जबकि अगले दो वनडे में 55 और 87 रन की पारियां खेली. शास्त्री ने कहा, ‘‘ वह लीजेंड है. वह हमारे महान क्रिकेटरों में से एक है. मैंने किसी इंसान को इतना शांत नहीं देखा. मैंने कई बार सचिन को नाराज होते देखा है लेकिन धोनी को नहीं.’’ Also Read - कप्तान अजिंक्य रहाणे के पूछने पर गाबा टेस्ट में चोट के साथ गेंदबाजी को तैयार थे नवदीप सैनी

शास्त्री ने कहा कि धोनी की जगह कोई नहीं ले सकता. उन्होंने कहा ,‘‘ ऐसे खिलाड़ी 30 या 40 साल में एक बार आते हैं. मैं भारतीयों से यही कहता हूं. जब तक वह खेल रहा है, उसका मजा लो. वह संन्यास ले लेगा तो ऐसा खालीपन पैदा होगा जिसे भरना मुश्किल होगा.’’

तीसरा वनडे जीतकर भारत ने जीती सीरीज, धोनी की पारी ने दिलाई ऐतिहासिक कामयाबी

उन्होंने उम्मीद जताई कि ऋषभ पंत अपेक्षाओं पर खरे उतर सकेंगे लेकिन यह भी कहा कि धोनी की बात ही अलग है. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने पूछा कि क्या पंत अगले 20 साल में धोनी बन सकते हैं, शास्त्री ने कहा, ‘‘मैं चाहूंगा. उसके पास प्रतिभा है. एम एस उसका हीरो है. वह रोज उसे फोन करता है. टेस्ट सीरीज के दौरान भी उसने एम एस से बात की होगी.’’

महेंद्र सिंह धोनी: 3 मैच, 3 हाफ सेंचुरी और पानी मांगने लगे ‘फिनिशर’ का करियर फिनिश होने का दावा करने वाले

अंतर्मुखी धोनी ने 2011 के बाद से किसी को इंटरव्यू नहीं दिया है. शास्त्री ने कहा, ‘‘वह जीरो पर आउट हो जाए, शतक बनाए, विश्व कप जीते या पहले दौर में बाहर हो जाए, वह बदलता नहीं है. उसकी भाव भंगिमा एक सी रहती है और मैं इस पर हैरान हो जाता हूं. उसने 2011 के बाद से कोई इंटरव्यू नहीं दिया है.’’