भारतीय टीम के कोच रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) इस वक्‍त न्‍यूजीलैंड के वेलिंगटन में हैं जहां शुक्रवार तड़के से भारत और कीवी टीम दो मैचों की टेस्‍ट सीरीज के पहले मुकाबले में आमने सामने होंगी. शास्‍त्री ने मैच से एक दिन पहले एक फोटो अपने ट्वीटर से फैन्‍स के साथ साझा की. इस फोटो ने टीम इंडिया के लिए डेब्‍यू से जुड़ी शास्त्री की 39 साल पुरानी यादाें को ताजा कर दिया. Also Read - विश्व कप 2011 के ट्वीट में धोनी और उनका नाम ना लिखने पर युवराज सिंह ने रवि शास्त्री की टांग खींची

वेलिंगटन के बेसिन रिसर्व मैदान में 39 साल पहले 19 साल की उम्र में रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) ने भारत के लिए डेब्‍यू किया था. उन्‍होंने 151वें नंबर की टेस्ट कैप दी गई थी. बेसिन रिजर्व पर ठंडी हवाओं के बीच छह फुट लंबे इस युवा क्रिकेटर को तीन स्वेटर पहनने पड़े थे. Also Read - ‘ट्रेसर बुलेट’ की तरह घूम रही COVID-19 महामारी से बचने के लिए घरों में रहें: रवि शास्त्री

पढ़ें:- गंभीर बोले, सहवाग-वार्नर की तरह गेंदबाजों का अपमान नहीं करेंगे मयंक लेकिन फिर भी हैं शानदार ओपनर Also Read - विराट कोहली हैं भारतीय क्रिकेट टीम के 'बॉस' : रवि शास्त्री

रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) ने लकड़ी की बेंचों और सफेद ग्रिल की सीमारेखा को निहारते अपनी तस्वीर के साथ तस्‍वीर साझा की. उन्‍होंने लिखा, ‘‘39 वर्ष हो गए. इतिहास खुद को दोहराता है. कल यही दिन, यही मैदान, यही टीम और यही शहर होगा जहां मैने 39 साल पहले पहला टेस्ट खेला था. ड्रेसिंग रूम अब भी वही है. कुछ नहीं बदला.’’

शास्त्री को दरअसल विकल्प के तौर पर न्यूजीलैंड बुलाया गया था क्योंकि दिलीप दोशी ऑस्ट्रेलिया दौरे पर घायल हो गए थे. उस समय शास्त्री कानपुर में रणजी ट्रॉफी क्वार्टर फाइनल खेल रहे थे.

‘मिड डे’ में छपी खबर के अनुसार शास्त्री को उस गेस्टहाउस के गेटकीपर से अपने चुने जाने की खबर मिली थी जिसमें मुंबई की टीम रह रही थी. अपने डेब्‍यू मैच में शास्त्री ने दसवें नंबर पर उतरकर 19 रन बनाये थे. उन्होंने अपनी स्पिन गेंदबाजी से 54 रन देकर तीन और नौ रन देकर तीन विकेट लिये थे.

IPL 2020: KXIP से जुड़ने से पहले अनिल कुंबले के लिए सवालों की लिस्ट तैयार कर चुके हैं रवि बिश्नोई

भारत वह टेस्ट 62 रन से हार गया लेकिन शास्त्री अगले 11 साल तक भारत के लिये 80 टेस्ट और 150 वनडे खेले. ओल्ड बेसिन पवेलियन में बैठे या चहलकदमी करते भारतीय टीम के मुख्य कोच अब अपनी टीम से जीत की नयी पटकथा लिखने की उम्मीद कर रहे होंगे.