दुनिया भर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस का असर खेल जगत पर प्रभावी रूप से दिखने लगा है। Covid-19 की वजह से एनबीए (NBA), चैपियंस लीग, एनएचएल (NHL), प्रीमियर लीग जैसे कई बड़े टूर्नामेंट रद्द कर दिए गए हैं। वहीं भारत की मशहूर क्रिकेट लीग आईपीएल (IPL) को भी इस वायरस के खतरे की वजह से 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया गया है। इतिहास में ये दूसरा मौका है जब किसी महामारी की वजह से बड़ी खेल प्रतियोगिताओं को स्थगित किया गया है। Also Read - भावुक कनिका कपूर ने अब फैंस को समझाई जिंदगी की अहमियत, बोलीं समय हमें...

लगभग 101 साल पहले एक ऐसी ही महामारी ने खेल जगत को हिला कर रख दिया था। साल 1919 में स्पैनिश फ्लू की वजह से स्टैनली कप फाइनल को रद्द कर दिया गया था। सिएटल मेट्रोपॉलिटन्स और मोन्ट्रियल कैनेडियंस हॉकी टीमों के बीच होने वाले छठें मुकाबले को मैच शुरू होने के लगभग 5 घंटे पहले रोक दिया गया क्योंकि इस फ्लू से प्रभावित कनाडा की टीम के कई खिलाड़ियों को तेज बुखार की वजह से अस्पताल में भर्ती में करना पड़ा। Also Read - कोविड-19: यूपीसीए और केरल क्रिकेट संघ ने 50-50 लाख रुपए का दान देने का ऐलान किया

अगले महीने होगा IPL 2020 के भविष्य पर ‘आखिरी फैसला’ Also Read - IIT बॉम्बे ने ईजाद किया Corontine मोबाइल एप, क्वॉरेंटाइन में बाहर निकलने वाले मरीजों पर रखेगा नजर

स्पैनिश फ्लू साल जनवरी 1918 से दिसंबर 1920 तक फैला रहा, जिसकी वजह से कुल 50 मिलियन से भी ज्यादा लोगों ने अपनी जानें गंवाईं जो कि प्रथम विश्व युद्ध से भी कहीं ज्यादा है जो कि 1918 में ही खत्म हुआ था। कई लोगों का ऐलान मानना था कि जर्मनी की आर्मी ने इस फ्लू का इजाद हथियार के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए किया था।

1918 की इन्फ्लूएंजा महामारी इतिहास में सबसे गंभीर महामारी थी। ये H1N1 वायरस की वजह से हुई थी, जिसमें एवियन मूल के जीन थे। हालांकि 1918 H1N1 वायरस को संश्लेषित और मूल्यांकित किया गया है, लेकिन इसे नष्ट करने वाले गुणों को आज तक अच्छी तरह से समझा नहीं गया है।

यानि कि इसका सटीक इलाज या वैक्सीन नहीं बनाया जा सका था। जिस वजह से इसे रोकने के लिए लोगों को अलग रखने, साफ-सफाई और एक जगह पर ज्यादा लोगों को एकट्ठा ना होने देने जैसे उपायों का इस्तेमाल किया गया। फिलहाल इसी तरह के उपायों का इस्तेमाल कोरोना वायरस से निपटने के लिए भी किया जा रहा है।