कोर्ट ने नोवाक जोकोविच का वीजा रद्द करने के ऑस्ट्रेलियाई सरकार के फैसले को पलटा; ऑस्ट्रेलिया ओपन में खेलने का फैसला करेंगे एलेक्स हॉर्क

मामले की वर्चुअल सुनवाई कई बार बाधित हुई क्योंकि दुनिया भर से हजारों लोगों ने इसे देखने की कोशिश की थी। एक समय पर तो कोर्ट लिंक हैक हो गया थी।

Published: January 10, 2022 2:53 PM IST

By India.com Hindi Sports Desk | Edited by Gunjan Tripathi

कोर्ट ने नोवाक जोकोविच का वीजा रद्द करने के ऑस्ट्रेलियाई सरकार के फैसले को पलटा; ऑस्ट्रेलिया ओपन में खेलने का फैसला करेंगे एलेक्स हॉर्क
नोवाक जोकोविच (file photo)

ऑस्ट्रेलियाई जज ने सोमवार को दुनिया के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकाविच (Novak Djokovic) का वीजा बहाल कर दिया है। जिनका वीजा कोरोना वैक्सीन नहीं लगाने के कारण पिछले हफ्ते ऑस्ट्रेलिया पहुंचते ही रद्द कर दिया गया था।

Also Read:

सर्किट कोर्ट के जज एंथोनी केली ने सरकार को आदेश दिया कि फैसले के 30 मिनट के अंदर जोकोविच को मेलबर्न के क्वारेंटीन होटल से बाहर किया जाए।

सरकारी वकील क्रिस्टोफर ट्रान ने जज को बताया कि आव्रजन, नागरिकता, आप्रववास सेवा और बहुसांस्कृतिक विभाग के मंत्री एलेक्स हॉके तय करेंगे कि वीजा रद्द करने के लिए उन्हें निजी अधिकार का इस्तेमाल करना है या नहीं।

इसके मायने हैं कि जोकोविच को फिर से डिटेंशन झेलना पड़ सकता है और वो 17 जनवरी से शुरू हो रहे आस्ट्रेलियाई ओपन से बाहर हो सकते हैं।

जोकोविच ने अपने निर्वासन और वीजा रद्द किए जाने को ऑस्ट्रेलिया के फेडरल सर्किंट और फैमिली कोर्ट में चुनौती दी थी। ऑस्ट्रेलिया सरकार ने बुधवार को मेलबर्न पहुंचते ही उनका वीजा रद्द कर दिया था क्योंकि कोरोना टीकाकरण नियमों में मेडिकल छूट पाने के मानदंडों पर वो खरे नहीं उतरते थे।

जोकोविच ने कहा कि उन्हें टीकाकरण का सबूत देने की जरूरत नहीं है क्योंकि उनके पास सबूत है कि वो पिछले महीने कोरोनावायरस का शिकार हुए थे। अदालत में पेश जोकोविच के दस्तावेजों में कहा गया है कि उन्होंने टीका नहीं लगवाया है। ऑस्ट्रेलिया के चिकित्सा विभाग ने छह महीने के भीतर कोरोना संक्रमण के शिकार लोगों को टीकाकरण मे अस्थायी छूट दी है।

सर्किट कोर्ट के जज केली ने पाया कि जोकोविच ने मेलबर्न हवाई अड्डे पर अधिकारियों को टेनिस ऑस्ट्रेलिया द्वारा उन्हें दी गई मेडिकल छूट के दस्तावेज सौंपे थे। जज ने जोकोविच के वकील निक वुड से पूछा, “सवाल ये है कि वो और क्या कर सकते थे।”

जोकोविच के वकील ने स्वीकार किया कि वो और कुछ नहीं कर सकते थे। उन्होंने कहा कि जोकोविच ने अधिकारियों की समझाने की काफी कोशिश की कि ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश के लिए वो जो कुछ कर सकते थे, उन्होंने किया।

मामले की वर्चुअल सुनवाई कई बार बाधित हुई क्योंकि दुनिया भर से हजारों लोगों ने इसे देखने की कोशिश की थी। एक समय पर तो कोर्ट लिंक हैक हो गया थी।

जोकोविच 20 बार ग्रैंडस्लैम जीत चुके हैं और एक खिताब जीतकर वो रोजर फेडरर तथा रफेल नडाल से आगे निकल जाएंगे। ऑस्ट्रेलिया ओपन उन्होंने नौ बार जीता है।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें खेल की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 10, 2022 2:53 PM IST