कोविड-19 महामारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज और वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद गौतम गंभीर ने देशवासियों से इसे गंभीरता से लेने का आग्रह किया है. गंभीर का कहना है कि जनता लॉकडाउन का पालन करे नहीं तो वो खुद के अलावा अपने परिवार की भी जान जोखिम में डालेंगे. Also Read - PM Modi कुछ देर में वाराणसी में COVID19 की स्‍थ‍िति की समीक्षा मीटिंग में करेंगे

गंभीर ने सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए क्वेरंटाइन रहने के सरकार के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसे लोग सुरक्षित रहने या जेल जाने का विकल्प चुन सकते हैं. Also Read - Coronavirus Spike: देश में आज फिर कोरोना का रिकॉर्ड, 2.61 लाख नए केस आए, 24 घंटे में 1501 मौतें हुईं

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए पूरा भारत लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहा है. ज्यादातर लोगों ने घर में रहते हुए रविवार को ‘जनता कर्फ्यू’ का पालन किया. हालांकि रात के नौ बजे के बाद बड़ी संख्या में लोग घर से बाहर निकल गए. Also Read - UP: Corona के कहर के बीच गाजियाबाद में श्मशान के बाहर लगी शवों की लाइन, यहां भी टोकन सिस्‍टम

कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में उतरे अख्तर, कहा ‘हिंदु या मुस्लिम नहीं, इंसान बनने का समय है’

गंभीर ने ट्वीट किया, ‘खुद भी जाएंगे और परिवार को भी ले जाएंगे. क्वारेंटाइन (पृथक) या जेल! पूरे समाज पर खतरा ना बने और घर पर रहें! जंग, नौकरी और व्यापार से नहीं, ज़िंदगी से है! ज़रूरी सेवायें देने वाले परेशान ना हों इसका भी ध्यान रखें! लाकडाउन का पालन करे. जय हिंद.’


कोरोना वायरस के संक्रमण से दुनियाभर में 15,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है जबकि भारत के 19 राज्यों ने लॉकडाउन की घोषणा की है. भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने भी लोगों से घर में रहने का आह्वान किया है.

‘जनता कर्फ्यू’ का सचिन-सहवाग सहित खेल जगत ने किया स्वागत, एक सुर में बोले-इसे आगे भी…

बीसीसीआई ने कहा, ‘अगर आप दुनिया के करोड़ों लोगों के लिए खेलने का सपना देखते है तो यही समय है. यही मौका है.’ भारत में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या 400 को पार कर गई है जबकि इसकी वजह से 7 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.