कोरोनावायरस महामारी के चलते अब तक खेल गतिविधियां शुरू नहीं हो पाई हैं. इस महामारी का प्रभाव अभी कम होता नहीं दिख रहा है जिससे देश की युवा निशानेबाज मनु भाकर रोजमर्रा की एक जैसी ट्रेनिंग की बोरियत को खत्म करने के लिए खेतों में ट्रैक्टर चलाने के अलावा अपने शौक जैसे पेंटिंग और घुड़सवारी करने में समय बिता रही हैं.Also Read - ICC Under 19 World Cup 2022 पर कोविड का साया; कनाडा के नौ खिलाड़ियों के पॉजिटिव आने पर दो प्लेट मैच रद्द

मनु हरियाणा के झज्जर जिले में अपने गांव गोरिया में ट्रेनिंग करने में जुटी हैं. 18 वर्ष की निशानेबाज हालांकि शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहने के लिए अन्य चीजें भी कर रही हैं. मनु ने पीटीआई-भाषा से बातचीत में कहा, ‘महामारी को शुरू हुए काफी समय हो चुका है. मैं पेंटिंग करने के अलावा घुड़सवारी कर रही हूं और खेतों में ट्रैक्टर भी चला रही हूं.’ Also Read - Coronavirus in India: पिछले 24 घंटों में COVID-19 के 2.35 लाख नए मामले, 3.35 लाख लोग हुए रिकवर


टोक्यो ओलंपिक भी अगले साल तक स्थगित हो चुके हैं और कई अन्य प्रतियोगिताएं भी स्थगित हो गई या रद्द हो गई हैं तो खिलाड़ियों के लिए ध्यान एकाग्रचित्त रखना चुनौती बन जाता है. Also Read - Haryana में कोरोना पाबंदियों में ढील, 50 फीसदी क्षमता के साथ खुलेंगे सिनेमाघर-मल्टीप्लेक्स; स्कूलों को लेकर यह हुआ फैसला

‘मैं कड़ी मेहनत कर रही हूं ‘

उन्होंने कहा, ‘मैं कड़ी ट्रेनिंग कर रही हूं और ध्यान केंद्रित किए हूं. योग और ध्यान इसमें काफी अहम भूमिका निभाते हैं, विशेषकर कोविड-19 द्वारा पैदा हुई इन मुश्किल परिस्थितियों में. इनसे मानसिक और शारीरिक समस्या निपटने में मदद मिलती है. जब आप ध्यान लगाते हो तो आप मानसिक रूप से काफी मजबूत होते हो, आप जानते हो कि एकाग्र कैसे हुआ जाए.’


यह पूछने पर कि जब चीजें सामान्य होंगी और खेल गतिविधियां शुरू होंगी तो खिलाड़ियों को किन किन चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है तो मनु ने कहा कि उनके लिए यह ज्यादा समस्या नहीं होगी.

उन्होंने कहा, ‘हमने हाल के दिनों में कोई टूर्नामेंट नहीं खेला. शिविर भी रद्द हो गए. लेकिन मैं अपने गृहनगर में ट्रेनिंग कर रही हूं ताकि मेरा ध्यान केंद्रित रहे.’