कोरोनावायरस महामारी के चलते अब तक खेल गतिविधियां शुरू नहीं हो पाई हैं. इस महामारी का प्रभाव अभी कम होता नहीं दिख रहा है जिससे देश की युवा निशानेबाज मनु भाकर रोजमर्रा की एक जैसी ट्रेनिंग की बोरियत को खत्म करने के लिए खेतों में ट्रैक्टर चलाने के अलावा अपने शौक जैसे पेंटिंग और घुड़सवारी करने में समय बिता रही हैं. Also Read - नहीं जाएगी रेलवे कर्मचारियों की नौकरी, लेकिन काम बदल सकता है: भारतीय रेल

मनु हरियाणा के झज्जर जिले में अपने गांव गोरिया में ट्रेनिंग करने में जुटी हैं. 18 वर्ष की निशानेबाज हालांकि शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहने के लिए अन्य चीजें भी कर रही हैं. मनु ने पीटीआई-भाषा से बातचीत में कहा, ‘महामारी को शुरू हुए काफी समय हो चुका है. मैं पेंटिंग करने के अलावा घुड़सवारी कर रही हूं और खेतों में ट्रैक्टर भी चला रही हूं.’ Also Read - इशांत शर्मा ने कहा- 2013 के बाद महेंद्र सिंह धोनी को अच्छे से समझ पाया था


टोक्यो ओलंपिक भी अगले साल तक स्थगित हो चुके हैं और कई अन्य प्रतियोगिताएं भी स्थगित हो गई या रद्द हो गई हैं तो खिलाड़ियों के लिए ध्यान एकाग्रचित्त रखना चुनौती बन जाता है.

‘मैं कड़ी मेहनत कर रही हूं ‘

उन्होंने कहा, ‘मैं कड़ी ट्रेनिंग कर रही हूं और ध्यान केंद्रित किए हूं. योग और ध्यान इसमें काफी अहम भूमिका निभाते हैं, विशेषकर कोविड-19 द्वारा पैदा हुई इन मुश्किल परिस्थितियों में. इनसे मानसिक और शारीरिक समस्या निपटने में मदद मिलती है. जब आप ध्यान लगाते हो तो आप मानसिक रूप से काफी मजबूत होते हो, आप जानते हो कि एकाग्र कैसे हुआ जाए.’


यह पूछने पर कि जब चीजें सामान्य होंगी और खेल गतिविधियां शुरू होंगी तो खिलाड़ियों को किन किन चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है तो मनु ने कहा कि उनके लिए यह ज्यादा समस्या नहीं होगी.

उन्होंने कहा, ‘हमने हाल के दिनों में कोई टूर्नामेंट नहीं खेला. शिविर भी रद्द हो गए. लेकिन मैं अपने गृहनगर में ट्रेनिंग कर रही हूं ताकि मेरा ध्यान केंद्रित रहे.’