नई दिल्ली. स्मिथ एंड कंपनी ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन में जो किया वो अब क्रिकेट इतिहास के काले पन्नों में दर्ज हो चुका है. लेकिन इसे लेकर अब ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट भी पूरे वर्ल्ड में बदनामी हो रही है. कमाल की बात तो ये है कि केपटाउन के बॉल टेम्परिंग कांड पर सिर्फ दुनिया के बाकी देशों के क्रिकेटर ही स्मिथ एंड कंपनी की क्लास नहीं लगा रहे हैं बल्कि इस लिस्ट में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर भी शामिल हैं. साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने जो सबसे पहले ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर कैमरून बेनक्रॉफ्ट की गेंद से छेड़ छाड़ करते तस्वीर को लेकर सवाल खड़े किए थे, वो सवाल अब आग की लपटों की तरह पूरे क्रिकेट के महकमें में फैल चुकी है. बॉल टेम्परिंग की काली करतूत के लिए के लिए स्मिथ एंड कंपनी को पूरी दुनिया के क्रिकेटरों ने ्अपना निशाना बनाया है.

Australian government calls for Steven Smith to be removed as captain | ऑस्ट्रेलियाई सरकार का आदेश, स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाया जाए

Australian government calls for Steven Smith to be removed as captain | ऑस्ट्रेलियाई सरकार का आदेश, स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाया जाए

स्टेन और भज्जी के निशाने पर कंगारू

स्मिथ की टीम की बॉल टेम्परिंग पर सवाल दागने वाले सबसे पहले क्रिकेटर थे डेल स्टेन. स्टेन ने अपने ट्विटर पर कैमरून बेनक्रॉफ्ट की एक तस्वीर को पोस्ट करते हुए लिखा क्या हम इस पर बात कर सकते हैं.

 

इस पर भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह का जवाब आया क्यों नहीं . ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट की ये ऐसी परंपरा है जिस पर हम लंबे वक्त से बात करते रहे हैं.

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विस्फोटक ओपनर एडम गिलक्रिस्ट ने तो स्मिथ को कटघरे में खड़े करते हुए भविष्य में उनके कप्तान बने रहने पर ही सवाल उठा दिए हैं. गिलक्रिस्ट ने कहा , मैं नहीं समझता कि अब स्मिथ को कप्तान बने रहना चाहिए या उस इस पद के लायक भी हैं. खासकर तब जब उन्होंने खुद ही बॉल टेम्परिंग में शामिल होने की बात स्वीकार ली है. ”

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व लेग स्पिनर शेन वॉर्न ने ट्वीट किया . जो तस्वीरें दिखी वो कहीं से भी जेन्टलमैन गेम क्रिकेट के हित में नहीं है. ये निराशाजनक हैं.

वॉर्न के अलावा पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क भी स्मिथ एंड कंपनी की इस हरकत पर आगबबूला हैं . क्लार्क ने लिखा,” ये क्या था. मुझे कोई कह दे कि ये एक बुरा सपना है.

गिली, वॉर्न और क्लार्क की तरह ही ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज मिशेल जॉनसन भी बॉल टेम्परिंग की घटना से आहत हैं. उन्होंने इसे निराशाजनक कहा है.

क्रिकेट में गंदे खेल के बॉस बने कंगारुओं को लताड़ने में जब ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर पीछे नहीं रहे तो भला इंग्लैंड के क्रिकेटर इसमें कैसे पीछे रहते . इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने कहा कि, केपटाउन में जो हुआ वो वो जानने के बजाए हमें स्मिथ को कप्तानी से हटाए जाने के बारे में ज्यादा सोचना चाहिए. ऑस्ट्रेलियाई टीम ने चीटिंग कर खेल भावना को बड़ी ठेस दी है.

इंग्लैंड के एक और पूर्व बल्लेबाज जेम्स टेलर ने कहा कि मैंने जब स्मिथ और बेनक्रॉफ्ट का प्रेस कॉन्फ्रेंस सुना तो ये मुझे काफी डरावना लगा.

ऑस्ट्रेलियाई टीम मैदान पर अपने गलत कारनामों के लिए पहले भी चर्चा में रही है. लेकिन स्मिथ एंड कंपनी ने सारी हदें पार कर दी. यही वजह है कि अब उनके अपने भी अब उनके साथ खड़े नहीं हैं.