Afghanistan Crisis Latest News: अफगानिस्‍तान मे नवगठित तालिबान सरकार (Taliban Government) द्वारा महिला क्रिकेट (Afghanistan Women Cricket Ban) पर रोक लगाने के बाद इस मामले में क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने सख्‍त रुख अख्तियार किया है. क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया (CA) ने साफ कर दिया है कि अगर तालिबान महिला क्रिकेट टीम को खेलने की इजाजत नहीं देता तो पुरुष क्रिकेट टीम के साथ भी होने वाले टेस्‍ट मैच को रद्द समझे .Also Read - Women Cricket: टाई हुआ वेस्टइंडीज साउथ अफ्रीका का आखिरी वनडे, सुपर ओवर में विंडीज ने जीता मैच

पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार अफगानिस्‍तान की पुरुष टीम को 27 नवंबर से ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर एकमात्र टेस्‍ट मैच खेलना है. सीए की तरफ से कहा गया कि वो महिलाओं और पुरुषों में भेदभाव के खिलाफ हैं. पुरुषों की तर्ज पर महिलाओं को भी क्रिकेट खेलने का समान अधिकार मिलना चाहिए. हम इन चीजों का पूरी तरह से विरोध करते हैं. ‘‘ क्रिकेट आस्ट्रेलिया दुनिया भर में महिला क्रिकेट के विकास को काफी महत्व देता है. हमारा मानना है कि खेल सबके लिये हैं और हर स्तर पर महिलाओं को भी खेलने का समान अधिकार है.’’ Also Read - टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री से नाराज है BCCI

Also Read - India vs England- मैनचेस्टर टेस्ट रद्द होने का कारण मैं नहीं, बनाया जा रहा है बलि का बकरा: Ravi Shastri

क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया की तरफ से आगे कहा गया,‘‘अगर अफगानिस्तान में महिला खेलों (Afghanistan Women Cricket) पर रोक की खबरें सही है तो हम होबर्ट में होने वाले इस टेस्ट की मेजबानी नहीं करेंगे. हम ऑस्ट्रेलिया और तस्मानिया सरकार को इस अहम मसले पर उनके सहयोग के लिये धन्यवाद देते हैं.’’

दोनों देशों की महिला टीमों के बीच मैच 27 नवंबर से होबर्ट में खेला जाना था. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर संघ ने भी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का समर्थन किया है . इसने कहा ,‘‘अफगानिस्तान में जो हो रहा है, वह मानवाधिकार का मसला है. हम चाहते हैं कि राशिद खान जैसे खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलें लेकिन अगर रोया समीम और उनकी साथी खिलाड़ियों को खेलने की अनुमति नहीं मिलती है तो यह टेस्ट मैच नहीं होगा.’’

इससे पहले खेलमंत्री रिचर्ड कोलबैक ने भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद से मामले में दखल देने की मांग की थी. बता दें कि रिपोर्ट्स के मुताबिक तालिबान के सांस्कृतिक आयोग के उप प्रमुख अहमदुल्लाह वासिक ने कहा था कि महिलाओं के लिये क्रिकेट खेलना (Afghanistan Women Cricket) जरूरी नहीं है. ‘‘यह मीडिया का युग है जिसमें फोटो और वीडियो देखे जायेंगे. इस्लाम और इस्लामी अमीरात महिलाओं को क्रिकेट या ऐसे खेल खेलने की अनुमति नहीं देता जिसमें शरीर दिखता हो.’’