BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने बड़ा फैसला लिया है. पूर्व भारतीय कप्तान ने इंडियन सुपर लीग (ISL)) क्लब एटीके मोहन बागान के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया है. माना जा रहा है कि गांगुली ने यह कदम हितों के टकराव से बचने के प्रयास में उठाया है, क्योंकि आरपीएसजी समूह अब IPL की दौड़ में शामिल हो गया है. एटीके मोहन बागान एफसी (ATK Mohun Bagan FC) का स्वामित्व आरपीएसजी वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड के पास है, जिसने सोमवार को लखनऊ में 7,090 करोड़ रुपये की रिकॉर्ड बोली के साथ नई आईपीएल टीम के अधिकार जीते हैं.Also Read - IPL 2022: Andy Flower और Daniel Vettori लखनऊ टीम का कोच बनने के लिए शॉर्टलिस्टिड, ऐलान जल्द

गांगुली ने बुधवार को क्रिकबज से कहा, “मैंने इस्तीफा दे दिया है.” एटीके मोहन बागान एफसी की वेबसाइट के अनुसार, निदेशक मंडल के अध्यक्ष के रूप में संजीव गोयनका के साथ गांगुली के नाम का उल्लेख निदेशक के रूप में किया जा रहा था. Also Read - शनिवार को भारत के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर बड़ा फैसला लेगी BCCI; 9 दिसंबर को रवाना हो सकती है टीम

जहां हितों के टकराव का विवाद सुलझता है, वहीं सीवीसी कैपिटल के संबंध में एक और आकार ले रहा है, जिन्हें 5625 करोड़ रुपये की बोली लगाने के बाद अहमदाबाद आईपीएल फ्रेंचाइजी से सम्मानित किया गया था. Also Read - IND vs SA: Omicron वैरिएंट के बीच क्या फैसला लेगा BCCI, खुद क्रिकेट साउथ अफ्रीका को जानकारी नहीं

कोलकाता के दिग्गज औद्योगिक घराने आरपी संजीव गोयनका समूह ने रिकॉर्ड 7090 करोड़ रुपये में आईपीएल में लखनऊ फ्रेंचाइजी खरीदी है, जिसके बाद सौरव गांगुली ने ऐसा कदम उठाया. साल 2022 सीजन से लखनऊ और अहमदाबाद फ्रेंचाइजी आईपीएल में हिस्सा लेंगी. अभी तक आईपीएल में मौजूदा आठ फ्रेंचाइजी के लिए खिलाड़ियों को बनाए रखने के नियमों पर कोई स्पष्टता नहीं है.

आईपीएल के 2022 सत्र में 10 टीमें होंगी और 74 मैच खेले जाएंगे. प्रत्येक टीम घरेलू मैदान पर सात और विरोधी टीम के मैदान पर सात मुकाबले खेलेगी.