POK Kashmir Premier League: पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर में क्रिकेट लीग कराने के पड़ोसी देश के फैसले के बाद बीसीसीआई के सख्‍त रवैये को देखते हुए विदेशी खिलाड़ी असमंजस में हैं. POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग (KPL) में मौका मिलने के बावजूद नहीं खेल पाने से इंग्‍लैंड के स्पिनर मोंटी पनेसर (Monty Panesar) खासे निराश हैं. उन्‍होंने उम्‍मीद जताई की बीसीसीआई KPL में नहीं खेलने की भरपाई उन्‍हें भारत में काम देकर करेगा.Also Read - IPL 2021- अगर Hardik Pandya फिट नहीं थे तो वर्ल्ड कप टीम में चयन क्यों: Saba Karim

रिपब्‍लिक वर्ल्‍ड से बातचीत के दौरान मोंटी पनेसर (Monty Panesar) ने कहा, “मुझे POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग में खेलने का मौका मिला है. मैं उम्‍मीद कर रहा था कि मुझे एक बार फिर खेलने का मौका मिलेगा. मुझे सलाह दी जा रही है कि मैं KPL में खेलने से परहेज बनाए रखूं अन्‍यथा मुझे इसके परिणाम भुगतने होंगे. क्‍योंकि मैं सपोर्ट्स मीडिया के क्षेत्र में अपनी पारी की शुरुआत करने जा रहा हूं लिहाजा मैं भारत में आकर काम करना चाहता हूं.” Also Read - Pakistan vs West Indies: वेस्टइंडीज ने बचाई Pakistan की लाज, T20-वनडे सीरीज के लिए जताई प्रतिबद्धता

मोंटी पनेसर (Monty Panesar) ने कहा, “हर खिलाड़ी POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग में मिलने वाले मौके को भुनाना चाहता है. मैं आशा करता हूं कि अगर हम केपीएल में नहीं खेल पाते हैं तो भारत हमें अपने यहां मौके देगा. हम भारत में काम करना चाहते हैं. हम भारत में कमेंट्री से लेकर कोचिंग के क्षेत्र में मौके पाने चाहते हैं.” Also Read - बिना खिलाड़ियों से बात किए इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने रद्द किया पाकिस्तान दौरा, PCB करेगा मुआवजे की मांग

यह मामला उस वक्‍त सामने आया जब साउथ अफ्रीका के क्रिकेटर हर्षल गिब्‍स ने सोशल मीडिया के माध्‍यम से बताया कि बीसीसीआई उन्‍हें केपीएल में नहीं खेलने के लिए धमका रहा है. ऐसा करने पर भारत में क्रिकेट संबंधित गतिविधियों से हमेशा के लिए बैन कर दिया जाएगा. बाद में बीसीसीआई के सूत्रों ने भी यह साफ कर दिया कि कश्‍मीर के मुद्दे पर वो भारत सरकार की लाइन पर ही चलते हुए काम करेंगे.