India vs New Zealand, 1st Test Match: भारत-न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में पहला टेस्ट मैच खेला जा रहा है, जिसमें भारत ने पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया. टीम इंडिया ने रोहित शर्मा की कप्तानी में मेहमान टीम के खिलाफ टी20 सीरीज में क्लीन स्वीप किया. अब फैंस को उम्मीद है कि अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) की कप्तानी में भारत पहला टेस्ट अपने नाम कर सीरीज में लीड बना ले. विराट कोहली (Virat Kohli) दूसरे टेस्ट मुकाबले के लिए टीम से जुड़ेंगे. भारत-न्यूजीलैंड की टीमें सफेद कपड़ों में आखिरी बार विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में उतरी थी, जहां उसे हार का सामना करना पड़ा. अब टीम इंडिया हिसाब बराबर करने को बेताब है.Also Read - IND vs NZ: वानखेड़े टेस्ट में दर्शकों से आधा स्टेडियम भरने की कशिश करेगा MCA लेकिन सरकार से इजाजत नहीं

पहले दिन के पहले सेशन पिच ने कोई खास संकेत नहीं दिए, लेकिन दूसरा दिन काफी अलग हो सका है. ग्रीन पार्क स्टेडियम के स्थानीय क्यूरेटर शिव कुमार का कहना है कि इस मैदान की पिच पर घास नहीं है लेकिन इसके टूटने (ज्यादा दरार पड़ने) की संभावना काफी कम है. पहले कई बार टीम प्रबंधन ने कुछ विशिष्ट प्रकार की पिच तैयार करने के निर्देश दिए हैं, लेकिन शिव कुमार ने बताया कि इस बार ना तो कोच राहुल द्रविड़ और ना ही कप्तान अजिंक्य रहाणे ने कोई विशेष मांग की. Also Read - IND vs NZ, 1st Test: गजब! Axar Patel ने 4 टेस्ट मैचों में झटके 32 विकेट, 5 बार मार चुके 'पंजा'

पिछले दो दशक से इस मैदान में काम रहे कुमार ने कहा, ‘‘हमें बीसीसीआई से कोई निर्देश नहीं मिला है, न ही टीम प्रबंधन से किसी ने मुझसे संपर्क करके पूरी तरह से स्पिनरों की मददगार पिच बनाने की बात कही. मैंने अच्छी पिच को ध्यान में रखते हुए एक पिच तैयार की है. यह नवंबर का महीना है और दुनिया के इस हिस्से में इस समय पिच में थोड़ी नमी होगी. मैं आपको इस बात के लिए आश्वस्त कर सकता हूं कि यह पिच जल्दी टूटेगी नहीं.’’ Also Read - India vs New Zealand, 1st Test: अक्षर पटेल के 5-विकेट हॉल के सामने 296 पर ढेर हुई न्यूजीलैंड, भारत को 63 रनों की बढ़त

बता दें कि पिछले कुछ समय से ज्यादातर विदेशी टीमें स्पिनरों के अनुकूल पिचों में तीन दिनों में ही घुटने टेक दे रही हैं. हालांकि कानपुर में 2016 में खेला गया भारत और न्यूजीलैंड का टेस्ट मैच पांचवें दिन तक चला था. इस मैदान पर भारत का रिकॉर्ड शानदार रहा है. दोनों टीमों के बीच अब तक 60 टेस्ट मैच खेले गए हैं, जिसमें भारत ने 21 टेस्ट जीते हैं, जबकि न्यूजीलैंड को 13 मैचों में जीत नसीब हुई है. 26 मुकाबले ड्रॉ रहे.