मुंबई टेस्‍ट में भारतीय टीम के सलामी बल्‍लेबाज मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) का जलवा देखने को मिला. उन्‍होंने पहली पारी के दौरान 150 रन ठोक दिए. दूसरी पारी में भी उनके बल्‍ले से अहम 62 रन आए. भारतीय टीम के पूर्व बल्‍लेबाजी कोच संजय बांगड़ (Sanjay Bangar) का मानना है कि इस शाानदार प्रदर्शन के बावजूद भी मयंक साउथ अफ्रीका दौरे पर (India Tour of South Africa 2021-22) ओपनिंग की तीसरी च्‍वांइस ही रहेंगे. उनका मानना है कि केएल राहुल (KL Rahul) और रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की वापसी के बाद उन्‍हें टीम में ओपनर के तौर पर जगह नहीं दी जा सकती है. भारत को 26 दिसंबर को बॉक्सिंग डे टेस्‍ट (Boxing Day Test) से साउथ अफ्रीका के (IND vs SA Test) खिलाफ तीन मैचों की टेस्‍ट सीरीज की शुरुआत करनी है.Also Read - Hardik Pandya ने नानी के साथ किया Pushpa फिल्‍म के गाने 'श्रीवल्‍ली' पर डांस, देखें क्‍यूट VIDEO

न्‍यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज में कप्‍तानी करने वाले रोहित शर्मा को कीवियों के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज से आराम दिया गया था. ऐसा करना जरूरी भी था क्‍योंकि वो बीते चार महीने से नॉन-स्‍टॉप क्रिकेट खेल रहे थे. केएल राहुल को भी साउथ अफ्रीका दौरे से पहले बीसीसीआई ने कुछ समय के लिए बायो-बबल से मुक्ति दे दी थी. यही वजह थी कि न्‍यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्‍ट सीरीज के दौरान शुबमन गिल और मंयक अग्रवाल (Mayank Agarwal) के लिए जगह बन पाई. गिल इंग्‍लैंड दौरे पर टेस्‍ट सीरीज से पहले चोटिल हो गए थे. मयंक के भी इस सीरीज से ठीक पहले एकाएक चोटिल होने के बाद रोहित शर्मा के साथ जोड़ीदार के रूप में केएल राहुल (KL Rahul) को मौका दिया गया. Also Read - PM Narendra Modi ने क्रिस गेल-जोंटी रोड्स को भेजा खास संदेश, दी गणतंत्र दिवस की बधाई

केएल राहुल (KL Rahul) ने लंबे अंतराल के बाद टेस्‍ट क्रिकेट में मिले ओपनिंग के मौके के दौरान शतक जड़ दिया और अपनी जगह इस स्‍थान पर पक्‍की कर ली थी.  संजय बांगड़ (Sanjay Bangar) ने कहा, “बिना किसी शक के केएल राहुल और रोहित शर्मा ही साउथ अफ्रीका में ओपनिंग करेंगे. हां, मयंक ने शानदार प्रदर्शन किया है लेकिन केएल राहुल और रोहित शर्मा से उनकी काबिलियत को हम नहीं छीन सकते हैं. इंग्‍लैंड में शानदार प्रदर्शन के सूत्रधार रोहित और राहुल ही हैं. रोहित ने 1000 से ज्‍यादा गेंदों का सामना किया. अगर कोई बल्‍लेबाज आपके लिए इतना कर दे तो विदेशी कंडीशन में आगे की राह काफी आसान हो जाती है. साउथ अफ्रीका, इंग्‍लैंड और न्‍यूजीलैंड जैसे देशों में ऐसी शुरुआत मिलने के बाद रन बनाना ज्‍यादा मुश्किल नहीं रह जाता. आपकी तकनीक को स्विंग और सीम कंडीशन में ही टेस्‍ट किया जाता है.” Also Read - PAK vs AUS: लाहौर धमाकों के बाद डर के साए में कंगारू खिलाड़ी, पाक दौरा कराने पर अड़ा बोर्ड