IND vs SA- Pujara-Rahane का फॉर्म देख पिघले Sunil Gavaskar, बोले- कभी-कभी हम काफी सख्त हो जाते हैं

जोहानिसबर्ग टेस्ट की पहली पारी में Ajinkya Rahane और Cheteshwar Pujara के फ्लॉप होने के बाद सुनील गावस्कर ने कहा था- दूसरी पारी उनके करियर बचाने या डुबोने वाली पारी होगी.

Published: January 7, 2022 1:53 PM IST

By India.com Hindi Sports Desk | Edited by Arun Kumar

IND vs SA- Pujara-Rahane का फॉर्म देख पिघले Sunil Gavaskar, बोले- कभी-कभी हम काफी सख्त हो जाते हैं
चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे @ICCTwitter

जोहानिसबर्ग टेस्ट की पहली पारी में जब अनुभवी बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) फ्लॉप हो गए थे, तब महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) उनके आलोचकों में शुमार थे. गावस्कर ने तब यहां तक कह दिया था कि जोहानिसबर्ग टेस्ट की दूसरी पारी उनके करियर बचाने या डुबोने वाली पारी होगी. अब जब दोनों बल्लेबाजों ने अपना क्लास दिखाई तो गावस्कर फिर से दोनों पर फिदा हो गए हैं. उन्होंने कहा कि कभी-कभी हम सीनियर खिलाड़ियों पर ज्यादा ही फिदा हो जाते हैं.

Also Read:

गावस्कर ने कहा दोने बल्लेबाज उस भरोसे पर खरे उतरे, जो उन पर दिखाया गया था और साथ ही उन्होंने कहा कि युवा प्रतिभाओं से उत्साहित हो जाना आसान होता है. लेकिन टीम को अपने सीनियर खिलाड़ियों पर तब तक भरोसा दिखाना जारी रखना चाहिए जब तक वे ‘खराब तरीके से आउट नहीं होने लगें.’ लगातार खराब प्रदर्शन के बाद आलोचनाओं से घिरे पुजारा और रहाणे ने बल्ले से अच्छा खेल दिखाया और साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में भारत की दूसरी पारी में अर्धशतक बनाए.

गावस्कर ने ‘स्टार स्पोर्ट्स’ से कहा, ‘वे अनुभवी हैं और उन्होंने टीम के लिए बीते समय में जो कुछ किया है, उससे टीम ने उनका समर्थन किया. उन्हें खुद पर भरोसा था कि वे अच्छा करेंगे और उन्होंने ऐसा किया भी.’

उन्होंने कहा, ‘कभी कभार हम अपने सीनियर खिलाड़ियों के प्रति थोड़ा सख्त हो सकते हैं क्योंकि आपके पास रोमांचक युवा खिलाड़ी इंतजार कर रहे होते हैं और हम सभी उन्हें थोड़ा खेलते हुए देखना चाहते हैं.’ गावस्कर ने कहा, ‘लेकिन जब तक ये सीनियर खिलाड़ी अच्छा खेल रहे हैं और बुरी तरह से आउट नहीं हो रहे, तो मुझे लगता है कि हमें उन पर भरोसा दिखाना चाहिए.’

नियमित कप्तान विराट कोहली टॉस से तुरंत पहले पीठ में दर्द के कारण दूसरे टेस्ट में नहीं खेल पाये थे. उन्होंने कहा, ‘यह पहली बार है जब भारत ने एक टेस्ट मैच गंवाया, जिसमें विराट कोहली नहीं खेले थे. उन्होंने (टीम ने) सिडनी में एक मैच ड्रा खेला था, वर्ना वे हमेशा जीते ही थे.’ रहाणे और पुजारा की पारियों के बावजूद भारतीय टीम साउथ अफ्रीकी बल्लेबाजों को रोक नहीं सकी, विशेषकर कप्तान डीन एल्गर को जिन्होंने महत्वपूर्ण साझेदारी से मेजबानों को सीरीज में 1-1 की बराबरी पर ला दिया.

(इनपुट: भाषा)

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 7, 2022 1:53 PM IST