भारतीय टीम के इंग्लैंड दौरे (India Tour of England 2021) का अंत तय कार्यक्रम के तहत नहीं हो पाया और टीम इंडिया में कोविड- 19 वायरस (Coronavirus) के आए मामलों के चलते यह दौरा 5वां और अंतिम टेस्ट खेले बिना ही खत्म करना पड़ा. इस दौरे का यूं अंत होने का कारण कई लोग भारतीय टीम के चीफ कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) के बुक लॉन्च कार्यक्रम को मान रहे हैं. क्योंकि शास्त्री को बुक लॉन्च कार्यक्रम के बाद ही उन्हें और साथी कोचिंग स्टाफ में कोरोना के मामले सामने आए थे. हालांकि भारतीय टीम के चीफ कोच ने कहा कि इससे उनका कोई लेना-देना नहीं है और उन्हें सिर्फ बलि का बकरा बनाया जा रहा है.Also Read - T20 World Cup 2021: Virat Kohli के लिए जीतो वर्ल्ड कप, Suresh Raina का टीम इंडिया के खिलाड़ियों को मैसेज

शास्त्री मैच से पहले लंदन में एक किताब के विमोचन (31 अगस्त) कार्यक्रम में पहुंचे थे, जिसके कुछ दिन (3 सितंबर) बाद वह और तीन अन्य सहायक स्टाफ कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. 5वें और अंतिम टेस्ट के शुरू होने से एक दिन पहले टीम के दूसरे फिजियो योगेश परमार भी कोरोना पॉजिटिव हुए, जिसके बाद मैनचेस्टर में होने वाल यह टेस्ट मैच को रद्द कर दिया गया. Also Read - BCCI ने टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए आवेदन मांगे; बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग स्टाफ की भी नियुक्ति होगी

टेस्ट मैच रद्द होने को लेकर कई लोगों ने शास्त्री को निशाने पर लिया था. हालांकि, शास्त्री ने कहा कि बिना किसी गलती के उनकी आलोचना हो रही है. शास्त्री ने द गार्जियन से कहा, ‘वे मुझे बलि का बकरा बनाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन मैं चिंतित नहीं हुआ. किताब विमोचन कार्यक्रम में करीब 250 लोग थे.’ Also Read - T20 World Cup 2021: Virat Kohli ने तोड़ी चुप्पी, MS Dhoni के 'मेंटर' बनने पर कही ये बात

उन्होंने कहा, ‘यह विमोचन के समय नहीं हुआ क्योंकि कार्यक्रम 31 अगस्त को था और मैं 3 सितंबर को कोवोडि पॉजिटिव पाया गया. यह तीन दिनों में नहीं हो सकता. मुझे लगता है कि लीड्स में मैं इसकी चपेट में आया. इंग्लैंड 19 जुलाई को खुला और अचानक होटल में लोग आने शुरू हुए और कोई पाबंदी नहीं थी.’

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें पुस्तक के विमोचन के लिए जाने का पछतावा है, शास्त्री ने कहा, ‘मुझे बिल्कुल भी पछतावा नहीं है क्योंकि उस समारोह में मैं जिन लोगों से मिला, वे शानदार थे. लड़कों के लिए बाहर निकलना और अलग-अलग लोगों से मिलना अच्छा था, न कि लगातार कमरे में रहना. ओवल टेस्ट में आप 5,000 लोगों द्वारा उपयोग की जाने वाली सीढ़ियां चढ़ रहे थे. लेकिन किताब के विमोचन पर ऊंगली उठा रहे हैं?’

शास्त्री ने कहा, ‘ईसीबी उत्कृष्ट रहा है और भारतीय क्रिकेट के साथ उनका रिश्ता जबरदस्त है. मुझे नहीं पता कि यह अगले साल एक स्टैंड-अलोन टेस्ट है या वे उन्हें दो अतिरिक्त टी20 मैच देते हैं, लेकिन मौजूदा रिश्ते के कारण ईसीबी को एक पैसा भी नहीं गंवाना पड़ेगा. 2008 में जब मुंबई में आतंकवादी विस्फोट हुआ था, इंग्लैंड ने वापस आकर टेस्ट खेला था. हम यह भूले नहीं हैं.’

(इनपुट: आईएएनएस)