India vs Sri Lanka 3rd T20I: पाकिस्‍तान की टीम के पूर्व कप्‍तान इंजमाम उल हक (Inzamam Ul Haq) का मानना है कि क्रुणाल पांड्या सहित कुल नौ भारतीय क्रिकेटर्स के कोरोना महामारी के कारण बाहर होने के बावजूद दूसरे टी20 मुकाबले में खेलना एक साहसी कदम था. इंजमाम ने भारत की इस मजबूती के लिए राहुल द्रविड़ को इसका श्रेय दिया.Also Read - Most Runs, Sixes in Calendar Year: सूर्यकुमार यादव की किसी से नहीं है टक्‍कर, बने सर्वाधिक छक्‍के जड़ने वाले बल्‍लेबाज

“भारतीय टीम कोविड-19 से बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुई है क्‍योंकि क्रुणाल पांड्या के अलावा आठ खिलाड़ी बाहर हो गए. उनके पास मैच नहीं खेलने का विकल्‍प था लेकिन उन्‍होंने दूसरे टी20 मुकाबले में उतरने का निर्णय लिया. ये साबित करता है कि भारतीय टीम हार से नहीं डरती है. जब आप हार से नहीं डरते तो जीत अपने आप रास्‍ता ढूंढ़ लेती है.” Also Read - IND vs SA : संजू सैमसन को नेतृत्‍व देने की तैयारी में चयनकर्ता, बनेंगे शिखर धवन के डेप्युटी!

इंजमाम उल हक (Inzamam Ul Haq) ने कहा,  “जब आप हार से नहीं डरते तो जीत अपने आप आपकी तरफ आने लगती है. भारतीय टीम ने उन क्रिकेटर्स पर विश्‍वास दिखाया जो खेलने के लिए उपलब्‍ध थे. भुवनेश्‍वर कुमार ने नंबर-6 पर बल्‍लेबाजी की क्‍योंकि भारत के पास खेलने के लिए पांच ही बल्‍लेबाज उपलब्‍ध थे.” Also Read - श्रीसंत ने आलोचना झेल रहे भुवनेश्वर कुमार को दी सलाह- कभी भी अपनी क्षमता पर विश्वास करना बंद ना करें

“क्रिकेट का खेल कुल मिलाकर अपनी खेल के प्रति अप्रोच पर निर्भर करता है. भारतीय टीम इस वक्‍त काफी मजबूत क्रिकेट खेल रही है क्‍योंकि मानसिक तौर पर वो कड़ी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हैं. वो इंग्‍लैंड में खिलाड़ी भेज रहे हैं जहां चोट के चलते भारतीय कैंप काफ प्रभावित है.”

इंजमाम उल हक (Inzamam Ul Haq) ने कहा,  “भारत ने दूसरा टी20 मैंच गंवा दिया लेकिन उन्‍होंने मेजबान टीम को कड़ी चुनौती भी दी. हालांकि भारत बोर्ड पर केवल 132 रन ही बना पाया लेकिन फिर भी श्रीलंका को महज दो गेंद पहले जीत मिली. टीम इंडिया का ये बेहद शानदार प्रदर्शन है.”

“मैं भारतीय टीम के मानसिक तौर पर मजबूत होने के लिए राहुल द्रविड़ को श्रेय देता हूं. एक खिलाड़ी की तकनीक को सही करना एक बात है और उन्‍हें मानसिक तौर पर मजबूत करना दूसरी. अगर किसी टीम के पास इस तरह के खिलाड़ी हैं तो उन्‍हें हरा पाना सच में काफी मुश्किल है. हार जीत खेल का हिस्‍सा है लेकिन टीम इंडिया का इस मुकाबले में बिना मुख्‍य बल्‍लेबाजों के खेलना एक सहासी कदम है.”