Pakistan vs New Zealand: पाकिस्‍तान की सरजमीं पर कदम रखने के बाद दौरा बीच में ही छोड़कर वापस स्‍वदेश लौटी न्‍यूजीलैंड की टीम के कार्यवाहक कप्‍तान टॉम लेथम ने पहली बार सीरीज रद्द होने के बाद अपनी प्रतिक्रिया दी. लेथम का मानना है कि न्‍यूजीलैंड के क्रिकेटर्स की सुरक्षा से बड़ा मुद्दा और कुछ भी नहीं हो सकता है. वो पूरी तरह से इस निर्णय के साथ हैं. टॉम लेथम ने हालांकि साथ ही यह भी कहा कि पाकिस्‍तान के साथ मैच होता तो मजा आता. उनकी टीम ने उन ऐतिहासिक क्षणों को गंवा दिया है.Also Read - PAK vs NZ, T20 World Cup 2021: हार से निराश Kane Williamson, पाकिस्तान को बताया 'मजबूत टीम'

Pakistan vs New Zealand: तय कार्यक्रम के अनुसान बीते शुक्रवार को रावलपिंडी में पाकिस्‍तान और न्‍यूजीलैंड के बीच वनडे सीरीज की शुरुआत होनी थी लेकिन पहले मुकाबले से कुछ घंटे पहले ही न्‍यूजीलैंड की टीम दौरे को आगे बढ़ाने से पीछे हट गई. बताया गया कि टीम को जान से मारने की धमकी मिलने के बाद न्‍यूजीलैंड सरकार ने यह निर्णय लिया है. Also Read - PAK vs NZ, T20 World Cup 2021: लगातार 2 जीत के बावजूद खुश नहीं Babar Azam, टीम के लिए कही ये बात

‘ईएसपीनक्रिकइंफो’ के मुताबिक लैथम ने न्यूजीलैंड के मीडिया चैनल को बताया, ‘‘ जब टीम वहां मौजूद थी तब यह न्यूजीलैंड क्रिकेट के लिए एक ऐतिहासिक क्षण था .  लेकिन जाहिर है चीजें बदल गयी.’’ Also Read - T20 World Cup 2021: पाकिस्तान का अजेय अभियान जारी, न्यूजीलैंड को 5 विकेट से दी मात

उन्होंने कहा, ‘‘ एनजेडसी (न्यूजीलैंड क्रिकेट) ने पाकिस्तान में मौजूद लोगों के साथ संपर्क कर तेजी से कार्रवाई की. हमारे इस फैसले के बाद भी पाकिस्तानी अधिकारियों का व्यवहार शानदार था. उन्होंने हमें होटल में सुरक्षित रखा और हमें निश्चित रूप से उन्हें धन्यवाद देना चाहिए.’’

Pakistan vs New Zealand: दुबई में मौजूद लैथम ने इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी. उन्होंने कहा, ‘‘यह खेल के सामान्य दिन की तरह था. हमें दोपहर 12.30 बजे मैच के लिए निकलना था लेकिन हमारे व्हाट्सएप समूह पर एक मैसेज आया कि हम 12 बजे टीम की बैठक करेंगे. हर कोई सोच रहा था कि क्या हो रहा है और फिर हमें खबर मिली कि हम वापस घर जा रहे हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ हमारे लिए उसके बाद के 24 घंटे घटनाओं से भरे रहे लेकिन एनजेडसी और खिलाड़ी संघ , पाकिस्तान में मौजूद हर किसी के लिए खिलाड़ियों की सुरक्षा सर्वोपरि थी. उन्होंने हमें 24 घंटे के अंदर दुबई पहुंचाकर शानदार काम किया.’’