विराट कोहली (Virat Kohli) के साथ विवाद के बीच अब बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को भी अपना पद छोड़ना पड़ सकता है. उनके साथ ही सचिव जय शाह (Jay Shah) का कार्यकाल भी अक्टूबर-2022 में समाप्त होगा. जल्द इन दोनों के भविष्य पर फैसला लिया जाना है. सौरव गांगुली और जय शाह को अक्टूबर 2019 में बीसीसीआई के अहम पद सौंपे गए थे. अगस्त 2018 को लागू नए ‘कूलिंग ऑफ पीरियड’ के मुताबिक राज्य संघ या बोर्ड में छह साल के कार्यकाल के बाद तीन साल कूलिंग ऑफ पीरियड पर जाना अनिवार्य है. उस वक्त गांगुली के पास 6 साल के कार्यकाल में सिर्फ 9 महीने ही बचे थे, उन्हें कार्यका को बढ़ाने की स्वीकृति मिल गई थी. सौरव गांगुली साल 2015 में बंगाल क्रिकेट संघ से जुड़े थे, जबकि जय शाह गुजरात क्रिकेट संघ के अध्यक्ष रह चुके हैं.Also Read - विराट कोहली ने गिफ्ट किया अपना बल्‍ला, राशिद खान ने VIDEO शेयर कर बताई पूरी बात

सौरव गांगुली के नाम ये बड़ी उपलब्धियां

सौरव गांगुली की उपलब्धियों में राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को टीम इंडिया का हेड कोच बनाना, जबकि वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) को नेशनल क्रिकेट एकडेमी (NCA) का अध्यक्ष बनाया गया है. टी20 विश्व कप-2021 के लिए महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को बतौर मेंटॉर टीम के साथ जोड़ा गया था. Also Read - केएल राहुल बने IPL इतिहास में लगातार 5 बार 500 रन बनाने वाले पहले भारतीय, ये विदेशी है नंबर-1

विराट कोहली के साथ सौरव गांगुली का विवाद

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सौरव गांगुली ने कहा कि उन्होंने विराट कोहली से टी20 कप्तानी नहीं छोड़ने को कहा था, लेकिन वह नहीं माने. साउथ अफ्रीका दौरे पर जाने से ठीक पहले विराट कोहली ने इसका खंडन कर दिया. Also Read - भारत का आयरलैंड दौरा: VVS लक्ष्मण निभाएंगे टीम इंडिया के कोच की जिम्मेदारी, राहुल द्रविड़ का क्या!

विराट कोहली ने कहा, “मैंने बोर्ड को बताया कि मैं टी-20 की कप्तानी छोड़ना चाहता हूं, जब मैंने ऐसा किया तो बोर्ड ने मेरी इस बात को बहुत अच्छे ढंग से स्वीकार किया. किसी ने मुझे कप्तानी जारी रखने के लिए मुझसे नहीं कहा था.”