भारतीय टीम के पूर्व कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) को वनडे टीम की कप्तानी से हटाने का फैसला भारतीय क्रिकेट में नया भूचाल ले आया था. तब सिर्फ टेस्ट टीम कप्तान विराट ने साउथ अफ्रीका रवाना होने से पहले बोर्ड की ओर से आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया था. यहां उन्होंने उन सभी बातों को दरकिनार कर दिया, जिसमें दावा किया जा रहा था कि विराट कोहली वनडे टीम की कप्तानी छोड़ने को तैयार थे. विराट कोहली (Virat Kohli) के बयान सीधे-सीधे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष और टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के बयानों के उलट थे, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि टी20 टीम की कमान छोड़ने के फैसले के बाद बीसीसीआई अधिकारियों ने उनसे इस पर पुनर्विचार करने को कहा था.Also Read - #RedTurnsBlue दिल्ली के खिलाफ मैच से पहले मुंबई इंडियंस के समर्थन में उतरी RCB

जब विराट कोहली (Virat Kohli) ने इन बयानों को खारिज कर दिया, तो बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) का नाराज होना स्वभाविक था. क्योंकि विराट ने उनके ही दावों को यहां नकारा था. गांगुली इससे खुश नहीं थे और उन्होंने विराट को इस पर कारण बताओ नोटिस जारी करने का फैसला कर लिया. लेकिन बोर्ड के अन्य अधिकारियों ने दादा (सौरव गांगुली) को समझाया कि ऐसा करने से विवादों को और तूल मिलेगा. इसलिए वह ऐसा कुछ न करें. Also Read - कप्तानी छोड़ने के बाद भी भारत के लिए एशिया कप और टी20 विश्व कप जीतना चाहते हैं विराट कोहली

दरअसल विराट कोहली ने यूएई में आयोजित हुए टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup 2021) के आयोजन से पहले ही यह ऐलान कर दिया था कि वह इस टूर्नामेंट के बाद टी20 फॉर्मेट में भारत की कप्तानी नहीं करेंगे. इसके बाद भारतीय सिलेक्शन कमेटी इसके पक्ष में नहीं थी कि वह सफेद बॉल के फॉर्मेट में दो अलग-अलग कप्तान नियुक्त करे. इसलिए उसने टी20 के साथ ही वनडे फॉर्मेट से भी विराट को कप्तानी से हटाकर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को कप्तान नियुक्त कर दिया. Also Read - मुंबई इंडियंस के टिम डेविड ने ऑलटाइम टी20 सर्वश्रेष्ठ XI में कप्तान रोहित शर्मा को नहीं दी जगह

अब जब मीडिया में विराट से पूछा गया कि क्या वनडे टीम की कमान भी उन्होंने खुद से छोड़ी है तो उन्होंने साफ-साफ कह दिया कि उनसे इस बारे में किसी ने कोई बात नहीं की. उन्होंने आगे कहा कि वनडे की कप्तानी से हटाने की जानकारी भी उन्हें टेस्ट टीम के चयन से एक घंटे पहले सिलेक्टर्स की ओर से दी गई कि वह ‘अब वनडे टीम के कप्तान नहीं हैं.’

इसके अलावा विराट ने उन बातों को भी नकार दिया, जिसमें सौरव गांगुली की ओर से कहा जा रहा था कि टी20 फॉर्मेट में उनके कप्तानी छोड़ने के फैसले के बाद बोर्ड की ओर से उनसे इस पर पुनर्विचार के लिए कहा गया था. विराट ने तब साफ-साफ कहा था कि सभी ने उनके इस फैसले का स्वागत किया था और सभी ने इसे भारतीय क्रिकेट के भविष्य के लिए प्रगतिशील फैसला करार दिया था.

समाचार वेबसाइट इंडियाअहेडन्यूज.कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) विराट कोहली (Virat Kohli) द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिए इन बयानों से खुश नहीं थे और उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करना चाहते थे. लेकिन बोर्ड के अन्य अहम अधिकारियों की सलाह के बाद उन्होंने ऐसा नहीं किया.

हालांकि साउथ अफ्रीका में टेस्ट सीरीज के बाद विराट कोहली (Virat Kohli) ने अब टेस्ट टीम की कमान भी छोड़ दी है. टेस्ट कप्तानी छोड़ने का फैसला लेने के बाद उन्होंने बोर्ड के सचिव जय शाह और बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को भी फोन पर इसकी जानकारी दी. दोनों से सहमति मिलने के बाद उन्होंने सार्वजनिक तौर पर इसका ऐलान कर दिया.