Sri Lanka vs India: श्रीलंका के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में भारत को जीत दिलाने में बड़ी भूमिका निभाने वाले दीपक चाहर (Deepak Chahar) ने साफ कर दिया है कि लोग चाहे उन्हें ऑलराउंडर मानें या नहीं, उन्हें इससे फर्क नहीं पड़ता है. दीपक चाहर ने कोलंबो (R.Premadasa Stadium, Colombo) में खेले गए दूसरे मुकाबले में नाबाद 69 रन की पारा खेली थी. इसके अलावा उन्होंने 2 शिकार भी किए.Also Read - England vs India: टेस्ट सीरीज से पहले Rishabh Pant ने बताया प्लान, इस तरह करनी होगी बल्लेबाजी

दीपक चाहर ने कहा है कि उनकी बल्लेबाजी से शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों का मनोबल बढ़ेगा. चाहर ने कहा कि वह ऑलराउंडर का टैग या टी 20 विश्व कप में चयन को लेकर चिंतित नहीं है और वह अपनी बल्लेबाजी में सुधार को लेकर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. Also Read - Sri Lanka vs India: श्रीलंका ने भारत से पहली बार जीती T20 सीरीज, बोर्ड ने किया खिलाड़ियों को मालामाल

चाहर ने कहा, “लोग मुझे ऑलराउंडर माने या ना मानें इससे फर्क नहीं पड़ता लेकिन जो बल्लेबाज मेरे साथ होगा उसे यह भरोसा होगा कि मैं उसका समर्थन कर सकता हूं. अगर मैं दूसरे वनडे की स्थिति में बल्लेबाजी कर रहा हूं तो यह जरूरी है कि शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों को पता हो कि यह बल्लेबाज मैच जिताने में मदद कर सकता है.” Also Read - Kusal Mendis समेत इन 2 खिलाड़ियों को बड़ा झटका, बोर्ड ने लगाया 1 साल का बैन

उन्होंने कहा, “मैंने अपनी बल्लेबाज पर कड़ी मेहनत की है. मेरे पिता मेरे कोच थे. जब मैं उनसे बात करता हूं और अगर हमारे बीच 10 मिनट बात होती है तो उसमें से छह-सात मिनट बल्लेबाजी पर बात होती है. मेरा हमेशा से मानना रहा है कि बेसिक्स बहुत जरूरी है. अगर आपकी बेसिक्स सही है तो आप अच्छा करेंगे. अगर आप स्विंग गेंदबाज बनना चाहते हैं तो तेजी बहुत जरूरी है.”

भले ही दीपक चाहर ने हमेशा खुद को ऑलराउंडर माना है, लेकिन इससे उनके पिता लोकेंद्र चाहर को आज भी इस बात का दुख है. दरअसल साल 2018 में चेन्नई सुपर किंग्स ने उन्हें 80 लाख में खरीदा था, लेकिन उनके भाई राहुल चाहर को मुंबई इंडियंस ने 1.9 करोड़ में अपने साथ जोड़ा था.

दीपक और राहुल को क्रिकेट की बारीकियां सिखाने वाले लोकेंद्र चाहर ने कहा, ”ये हमारी गलती थी. दीपक ने बतौर ऑलराउंडर फॉर्म भरा था. ऑलराउंडर कैटेगरी में खिलाड़ियों की नीलामी उसी दिन देर से हुई. राहुल गेंदबाज बनकर गए थे. नीलामी में राहुल का नाम जल्दी आया. बाद में दीपक आया. जब तक दीपक का नाम पुकारा गया, तब तक टीमों का काफी पैसा खत्म हो चुका था, नहीं तो दीपक को 2 करोड़ रुपये से ज्यादा मिल जाते.”

बता दें कि भारत-श्रीलंका के बीच सीरीज का तीसरा और अंतिम मैच 23 जुलाई को इसी मैदान पर खेला जाना है. भारत ने सीरीज में 2-0 से बढ़त बना रखी है. ऐसे में श्रीलंका सम्मान बचाने के इरादे से मैदान पर उतरेगी. इस शृंखला के बाद दोनों टीमों के बीच 3 टी20 मैच भी खेले जाने हैं.