भारत के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज में 2-0 से करारी हार के बाद साउथ अफ्रीका के फैन्‍स काफी निराश हैं. पुणे टेस्‍ट में मेहमान टीम को पारी और 137 रनों से पराजय झेलनी पड़ी. क्रिकेट साउथ अफ्रीका के चीफ थबांग मोरो ने फैन्‍स से धैर्य बनाए रखने की अपील की.

थबांग मोरो ने प्रेस स्‍टेटमेंट में कहा, ” यह साउथ अफ्रीका की टीम के लिए बदलाव का दौर है. किसी भी टॉप टीम के खिलाफ उनकी होम कंडीशन में खेलना हमेशा से ही बड़ी चुनौतीपूर्ण होता है. खासतौर पर ऐसे वक्‍त पर जब हम अपनी टीम में नया ढांचा तैयार कर रहे हैं.”

साउथ अफ्रीका की टीम पिछले करीब एक साल से लगातार खराब प्रदर्शन कर रही है. पहले अफ्रीकी टीम को अपने घर पर कमजोर श्रीलंकाई टीम से टेस्‍ट सीरीज में हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद वर्ल्‍ड कप में साउथ अफ्रीका की टीम ने खराब प्रदर्शन किया, अब भारत में भी इस टीम को टेस्‍ट सीरीज गंवानी पड़ी है.

पढ़ें:- टिम पेन का समय खत्म होने के बाद स्टीव स्मिथ को दोबारा कप्ताना बनाना चाहिए : रिकी पोंटिंग

भारत दौरे से पहले साउथ अफ्रीका ने परंपरागत कोच के सिस्‍टम को हटाकर केवल टीम मैनेजर की नियुक्ति की थी.
सीएसए चीफ ने कहा, “पिछले दो सालों में एबी डीविलियर्स, हाशिम अमला, मार्ने मोर्कल, डेल स्‍टेन जैसे बड़े खिलाड़ी क्रिकेट से विदाई ले चुके हैं. ये सभी खिलाड़ी कुल मिलाकर साउथ अफ्रीका के लिए 450 से ज्‍यादा टेस्‍ट मैच खेल चुके हैं. आप रातोंरात इन बड़े खिलाड़ियों का रिप्‍लेसमेंट नहीं ढूंढ सकते हो. हमें नई जनरेशन को सेटल होने के लिए थोड़ा समय देना होगा.”

उन्‍होंने कहा, “चीजों को सही ट्रैक पर लाने में थोड़ा वक्‍त लगता है. अगली सीरीज में जब इंग्‍लैंड की टीम साउथ अफ्रीका का दौरा करेगी तो आपको सुधार जरूर नजर आएगा.

पढ़ें:- जोफ्रा आर्चर को यकीन, लगातार दूसरा विश्व कप जीत सकता है इंग्लैंड

“मुझे विश्‍वास है कि साउथ अफ्रीका के सपोर्टर आगामी सीरीज के दौरान भी टीम के साथ अपना समर्थन बनाए रखेंगे. हमारे पास काफी प्रतिभावान खिलाड़ी हैं. कगीसो रबाडा, एडेन मार्करम, लुंगी एनगिडी, जुबैर हमजा ने पिछले कुछ सालों में अच्‍छा प्रदर्शन किया है.”