क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (CSA) ने खेल में फैले कथित नस्लवाद को दूर करने की योजना की घोषणा की हैं। बोर्ड का ये ऐलान तेज गेंदबाज लुंगी एनगिडी के ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ (BLM) वैश्विक आंदोलन को अपना समर्थन देने के बाद आया। पूर्व कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने भी नस्लवाद के खिलाफ हो रहे विरोध का समर्थन किया था। Also Read - WTC Final से पहले इंट्रा-स्क्वाड मैच के दौरान भारतीय बल्लेबाजों ने जमकर अभ्यास किया

एनगिडी के बीएलएम के समर्थन के बाद मखाया एनटीनी सहित 30 पूर्व खिलाड़ियों ने अपने खेल के दिनों में नस्लवाद के आरोप लगाए थे। पिछले साल संन्यास लेने वाले दिग्गज बल्लेबाज हाशिम अमला ने भी इस मुद्दे को उठाने के लिए एनगिडी का समर्थन किया था। Also Read - अश्विन को सर्वकालिक महान गेंदबाज कहे जाने से मांजरेकर को परेशानी; कहा- SENA देशों में 5-विकेट हॉल नहीं ले पाया है ये स्पिनर

सीएसए ने शुक्रवार को एक बयान में ‘क्रिकेट फॉर सोशल जस्टिस एंड नेशन बिल्डिंग (एसजेएन)’ नाम की परियोजना का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘क्रिकेट प्रशंसकों द्वारा राष्ट्रीय स्तर के आक्रोश के अलावा व्यापक हितधारक समूहों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।’’ Also Read - अगर ज्यादा मैच खेलने को ना मिलें तो इंजरी के बाद वापसी करना मुश्किल: उमेश यादव

सीएसए एक ‘परिवर्तन लोकपाल’ स्थापित करेगा, जिसके मूल उद्देश्य स्वतंत्र शिकायत प्रणाली के प्रबंधन के साथ-साथ क्रिकेट खिलाड़ियों, प्रशंसकों और राष्ट्र को एकजुट करने की प्रक्रिया की देखरेख करना शामिल होगा।

सीएसए बोर्ड के अध्यक्ष क्रिस नेनजानी ने कहा, ‘‘हमें खेद हैं कि हमारे क्रिकेट खिलाड़ियों को भावनात्मक तौर मुश्किल समय से गुजरना पड़ा। हमारे नए लोकतंत्र में नस्लवाद की जगह नहीं हैं। एसजेएन अपनी तरह की पहली परियोजना है, जिसका मकसद रंगभेद की नस्लीय भेदभाव से क्रिकेट को छुटकारा दिलाना है। सभी हितधारकों के लिये क्रिकेट की भविष्य की स्थिरता के लिए यह एक बहुत महत्वपूर्ण परियोजना है।’’