हैदराबाद: भारत के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने गुरूवार को कहा कि सिडनी टेस्ट में दर्शकों द्वारा नस्लीय टिप्पणियां किये जाने के बाद मैदानी अंपायरों ने उनकी टीम को तीसरा टेस्ट बीच में छोड़ने का विकल्प दिया था जिसे कप्तान अजिंक्य रहाणे ने ठुकरा दिया. सिराज और उनके सीनियर साथी तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को सिडनी में लगातार दो दिन नस्लीय टिप्पणियों का शिकार होना पड़ा जिसके बाद भारतीय टीम प्रबंधन ने मैच रैफरी डेविड बून से शिकायत की. क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने बाद में इसके लिये माफी भी मांगी. Also Read - सिराज को गाली, विराट से झगड़ा! बेन स्टोक्स बोले- पूरी दुनिया में खेल चुका हूं लेकिन इतने मुश्किल हालात का सामना नहीं किया

सिराज को कुछ दर्शकों ने ‘ब्राउन मंकी ’ कहा . सिराज ने कप्तान अजिंक्य रहाणे को यह बात बताई जिन्होंने मैदानी अंपायर पॉल रीफेल और पॉल विलसन को इसकी जानकारी दी. सिराज ने यहां पहुंचने पर प्रेस कांफ्रेंस में कहा ,‘‘ मैने आस्ट्रेलिया में अपशब्द सहे. मामला चल रहा है और देखते हैं कि मुझे इंसाफ मिलता है या नहीं. मेरा काम कप्तान को इसकी जानकारी देना था.’’ Also Read - बाउंसर फेंकने के बाद स्टोक्स ने मुझे गाली दी तो मैंने विराट भाई को बता दिया: मोहम्मद सिराज

आस्ट्रेलिया में भारत के लिये सर्वाधिक 13 विकेट लेने वाले इस गेंदबाज ने कहा ,‘‘ अंपायरों ने हमें मैच छोड़ने को कहा लेकिन रहाणे (भाई) ने कहा कि मैच नहीं छोड़ेंगे. हमने कोई गलती नहीं की है तो हम खेलेंगे .’’ Also Read - इंग्लिश स्पिनर जैक लीच का सामना करने के लिए अश्विन ने सात दिनों तक की थी तैयारी; बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौर को दिया श्रेय

उन्होंने कहा कि दर्शकों का खराब बर्ताव उनके लिये अच्छे प्रदर्शन की प्रेरणा बना. उन्होंने कहा ,‘‘ इससे मैं मानसिक रूप से अधिक मजबूत हुआ. मैने खेल पर उसका असर नहीं पड़ने दिया.’’

छह दर्शकों को उस घटना के बाद मैदान से निकाल दिया गया और क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का वादा किया है. सिराज ने कहा कि अभी उनके कैरियर की शुरूआत ही हुई है और भारत के लिये लंबे समय तक खेलना है तो वह इत्मीनान से नहीं बैठ सकते.

उन्होंने कहा ,‘‘ मैने कभी सीनियर गेंदबाजों की जगह लेने के बारे में नहीं सोचा लेकिन सीनियर खिलाड़ियों के चोटिल होने पर पूरी टीम ने मुझ पर भरोसा जताया. यह चुनौतीपूर्ण था और मुझ पर दबाव भी था.’’

उन्होंने कहा ,‘‘लेकिन मैं इत्मीनान से नहीं बैठ सकता . मैं भारत के लिये खेलना और अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं . मैं इस लय को कायम रखना चाहता हूं. मैं नहीं चाहता कि यह कामयाबी मेरे सिर चढे . मुझे भविष्य के लिये लक्ष्य तय करने हैं .’’

सिराज ने कहा ,‘‘ मुझे इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला में इस आत्मविश्वास को बनाये रखना है .टीम प्रबंधन मुझे जो भी भूमिका देगी, मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूंगा.’’ उन्होंने कहा कि नियमित कप्तान और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के उनके कप्तान विराट कोहली ने उनके कैरियर में प्रेरक की भूमिका निभाई है.

उन्होंने कहा ,‘‘ आईपीएल 2018 मेरे लिये अच्छा नहीं रहा लेकिन विराट भाई ने मेरा साथ दिया. आरसीबी ने मुझे निकाला नहीं और विराट भाई ने कहा कि मुझमें क्षमता है और ज्यादा सोचे बिना प्रदर्शन पर फोकस रखना है.’’