कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते इस समय क्रिकेट की सभी गतिविधियां ठप्प है. हालांकि क्रिकेट खेलने वाले देश अब धीरे-धीरे कोविड_19 को रोकने के लिए लगाई गई पाबंदियों में ढील दे रहे हैं. क्रिकेट को दोबारा शुरू करने को लेकर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने कुछ नए गाइडलाइंस जारी किए हैं. Also Read - केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला- दिल्ली के अस्पताल में दिल्लीवासियों का होगा इलाज, बाहरी लोगों का नही

कोरोना के बाद जब खेल शुरू होगा तो इंटरनेशनल क्रिकेटरों को अपनी कुछ आम आदतों को बदलना पड़ेगा जैसे उन्हें अभ्यास के दौरान शौचालय जाने और मैदानी अंपायरों को अपनी कैप या सनग्लास सौंपने की अनुमति नहीं होगी. अभ्यास के दौरान भी खिलाड़ियों की परेशानियां बढ़ सकती हैं क्योंकि उन्हें शौचालय का उपयोग करने की अनुमति नहीं होगी. Also Read - अफगानिस्तान के शीर्ष क्रिकेटरों ने काबुल में शुरू किया अभ्यास

आईसीसी के दिशानिर्देशों के अनुसार खिलाड़ी अपने निजी सामान जैसे कैप, तौलिया, सनग्लास, जंपर्स आदि अंपायर या साथियों को नहीं सौंप सकते और उन्हें शारीरिक दूरी बनाये रखनी होगी. Also Read - पब्लिक प्‍लेस पर आईजी मास्‍क पहनना भूल गए, एसएचओ ने किया फाइन, जानें ये सब कैसे हुआ

लेकिन यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि खिलाड़ियों का सामान कौन रखेगा. यही नहीं अंपायरों को भी गेंद को पकड़ते समय दस्तानों का उपयोग करना होगा.

ऐसे में पेनाल्टी रन जा सकते हैं 

खिलाड़ी अपनी कैप और धूप के चश्मों को मैदान पर नहीं रख सकते क्योंकि इससे पेनाल्टी रन जा सकते हैं जैसे कि हेलमेट के मामले में होता है. आईसीसी इसके साथ ही चाहती है कि खिलाड़ी मैच से पहले और मैच के बाद ड्रेसिंग रूम में कम समय बिताएं.

गेंद पर थूक लगाने पर बैन की सिफारिश 

आईसीसी क्रिकेट समिति पहले ही गेंद पर लार लगाने पर प्रतिबंध की सिफारिश कर चुकी है और अब खिलाड़ियों को गेंद छूने के बाद आंखें, नाक और मुंह स्पर्श नहीं करने की सलाह दी गई है तथा गेंद के संपर्क में आने के बाद अपने हाथ साफ करने के लिये कहा गया है.