नई दिल्ली: पहली बार फीफा विश्व कप के फाइनल में प्रवेश की चाह के लिए निर्धारित लक्ष्य को हासिल करने को क्रोएशियाई टीम बुधवार को हर हाल में इंग्लैंड की मजबूत दीवार लांघना चाहेगी. वहीं दूसरी ओर, लुज्निकी स्टेडियम में बुधवार को रात 11.30 बजे (भारतीय समयानुसार) होने वाले इस मुकाबले को जीतकर इंग्लिश टीम दूसरी बार फाइनल खेलना चाहेगी. इंग्लिश टीम जब 1966 में अंतिम बार फाइनल में पहुंची थी, तब वह चैम्पियन बनी थी. Also Read - CPL 2020 : लगातार 11वीं जीत दर्ज कर रिकॉर्ड चौथी बार कैरेबियाई प्रीमियर लीग के फाइनल में पहुंचे नाइटराइडर्स

Also Read - DY Patil Cup: हार्दिक पांड्या ने जड़ा दूसरा शतक; 55 गेंदो पर ठोकें 158 रन

दोनों टीमों लगभग दो दशकों के बाद एक बार फिर सेमीफाइनल में पहुंची हैं. ऐसे में जहां एक ओर इंग्लैंड का लक्ष्य दूसरे विश्व कप खिताब के लिए फाइनल का टिकट हासिल करना होगा, वहीं क्रोएशिया पहली बार फाइनल में पहुंच इतिहास रचने उतरेगी. Also Read - Women's T20 World Cup, IND vs ENG: बारिश के चलते SF रद्द, इस टीम ने बनाई फाइनल में जगह

इंग्लैंड ने 1990 में विश्व कप में चौथा स्थान हासिल किया था और क्रोएशिया ने 1998 में सेमीफाइनल में प्रवेश हासिल किया था. ऐसे में दोनों टीमें लगभग एक दशक के बाद एक बार फिर उसी स्तर पर हैं और इस बार दोनों ही टीमों का लक्ष्य फाइनल में प्रवेश हासिल करना होगा.

कार्तिक ने पूछा इंग्लैंड के खिलाफ रितिका के बिना कैसे लगाया शतक, रोहित ने दिया ये जवाब

फीफा विश्व कप की जीत का स्वाद इंग्लैंड की टीम एक बार चख चुकी है. उसने 1966 में खिताबी जीत हासिल की थी. उसके बाद हालांकि 1990 में ही अंतिम-4 में जगह बना सकी थी. आज की टीम में शामिल 23 में 17 खिलाड़ियों का जन्म भी उस समय नहीं हुआ था. इस लिहाज से वे इस विश्व कप को यागदार बनाना चाहते हैं.

क्रोएशिया ने सेमीफाइनल तक का रास्ता बेहद ही बेहतरीन प्रदर्शन के साथ तय किया है. उसने डेनमार्क और रूस के खिलाफ पेनाल्टी शूटआउट में जीत हासिल कर अंतिम-4 में जगह बनाई. लगभग 28 साल बाद फीफा विश्व कप सेमीफाइनल में पहुंची इंग्लैंड के खिलाफ जीत हासिल करने के लिए क्रोएशिया की टीम तैयार है. टीम के कोच ज्लातको डालिक का कहना है कि अगर क्रोएशिया लियोनेल मेसी जैसे खिलाड़ी को हरा सकता है, तो गोल्डन बूट की रेस में सबसे आगे चल रहे इंग्लैंड के कप्तान हैरी केन को भी रोक सकता है.

टीम इंडिया के लिए क्यों जरूरी हैं धोनी, पठान ने जो जवाब में कहा पढ़कर फैन हो जायेंगे आप

हैरी के अलावा, रहीम स्टर्लिग भी क्रोएशिया के डिफेंस के लिए खतरा साबित हो सकते हैं. उसके पास हैरी मैग्वीरे जैसा डिफेंडर भी है और गोलकीपर के रूप में जॉर्डन पिकफोर्ड क्रोएशिया को रोकने के लिए तैयार हैं. इंग्लैंड को हालांकि, 20 साल बाद सेमीफाइनल में पहुंची क्रोएशिया टीम के मिडफील्डर लुका मोड्रिक से सबसे अधिक डर है. मोड्रिक अपने साथी खिलाड़ी इवान राकिटिक और इंटर मिलान के इवान पेरिसिक के साथ मिलकर टीम का मिडफील्ड संभाल रहे हैं.

क्रोएशिया को भी अपने गोलकीपर डेनिजेल सुबासिक को रूस के खिलाफ खेले गए मैच के दौरान मांस-पेशियों में खिंचाव की समस्या हुई थी. इस दर्द के बाद भी वह मैदान पर टिके हुए थे. ऐसा कहा जा रहा है कि मेडिकल जांच के बाद ही सेमीफाइनल में उनकी उपस्थिति के बारे में कुछ कहा जा सकता है.

सुबासिक हालांकि, आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं. उनका कहना है कि रूस के खिलाफ मैच के दौरान मांस-पेशियों में दर्द हुआ था. ऐसे में उनके वैद्य से बातें पूछी जा सकती हैं और सेमीफाइनल के लिए उनकी उपस्थिति भी स्पष्ट हो पाएगी. क्रोएशिया की टीम में उसके डिफेंडर डोमागोज वीडा को भी हरी झंडी मिल गई है.

बर्थडे स्पेशल: टीम इंडिया का वो पहला खिलाड़ी जिसने टेस्ट क्रिकेट में बनाए ’10 हजार’ रन

रूस के खिलाफ मैच के दौरान यूक्रेन के पक्ष में टिप्पणी करने के कारण वीडा और क्रोएशिया टीम के सहायक कोच ओगनजेन वुकोजेविक को आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा. ऐसे में फीफा ने जहां एक ओर वीडा को चेतावनी दी है, वहीं वुकोजेविक को उनके गृहनगर भेज दिया गया है. दोनों ही टीमें दमदार हैं और ऐसे में दोनों का डिफेंस और अटैक पूरी तरह से एक-दूसरे पर भारी होकर गोल का अवसर तलाशने की कोशिश करेंगे. ऐसे में दोनों में से किसी भी टीम की जीत संभव है.

क्रोएशिया के पिछले दो मैचों से यह साफ जाहिर है कि वह अपना डिफेंस कमजोर नहीं पड़ने देगी और पेनाल्टी शूटआउट की स्थिति में उसकी जीत लगभग निश्चित है, वहीं इंग्लैंड का नेतृत्व करने के लिए उसके पास हैरी जैसा कप्तान है. इंग्लैंड भी फाइनल का टिकट कटाकर दूसरा विश्व कप खिताब जीतने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए पूरी तैयारी के साथ उतरेगी. दोनों टीमों के बीच का सेमीफाइनल मैच रोमांचक होने वाला है.

टीम क्रोएशिया :

गोलकीपर – डेनिजेल सुबासिक, लोवरो कालिनिक और डोमिनिक लिवाकोविक.

डिफेंडर – वेद्रन कोलुर्का, डोमागोज विदा, इवान स्ट्रिनीक, डेजान लोवरेन, सिमे वसाल्जको, जोसिप पीवारिक, टिन जेडवेज, डुजे सालेटा कार.

मिडफील्डर – लुका मोड्रिक, मटिओ कोवाचिक, इवान रेकिटिक, मिलान बाडेल्ज, मासेर्लो ब्राजोविक और फिलिप ब्राडेरिक.

फॉरवर्ड – मारियो मांजुकिक, इवान पेरीसिक, निकोला कालिनीक, एंद्रेज करामारिक, मार्को पीजासा और एंटे रेबिक.

FIFA 2018: सेमीफाइनल में फ्रांस के खिलाफ बेल्जियम का मुकाबला, लुकाकू पर होगी सबकी नजर

टीम इंग्लैंड :

गोलकीपर – जॉर्डन पिकफोर्ड, जैक बुटलैंड, निक पोप.

डिफेंडर – केल वॉकर, डेनी रोस, जॉन स्टोन्स, हैरी मेग्वीर, कीरान ट्रिपिर, गैरी काहिल, फिल जोन्स, फाबिया डेल्फ, एश्ले यंग, ट्रेंट एलेक्जेंडर आरनोल्ड.

मिडफील्डर – एरिक डिएर, जेसे लिंगार्ड, जॉर्डन हेंडरसन, डेले अली, रुबेन लोफ्टस चीक.

फॉरवर्ड – हैरी केन, रहीम स्टर्लिग, जैमी वार्डी, डैनी वेलबैक, मार्कस रैशफोर्ड.