नई दिल्ली: इंग्लैंड के पूर्व तेज गेंदबाज डेरेन गॉ को लगता है कि भारतीय तेज आक्रमण में इतना दमखम है कि वे एक अगस्त से शुरू हो रही टेस्ट श्रृंखला में भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह की कमी को पूरा कर सकें. गॉ ने कहा कि भुवनेश्वर (पहले तीन टेस्ट) और बुमराह (पहला टेस्ट) की गैरमौजूदगी में भी कप्तान विराट कोहली के पास तेज और स्पिन गेंदबाजी विभाग में कई विकल्प मौजूद है जो किसी भी पिच पर प्रभावी गेंदबाजी कर सकते हैं. Also Read - IPL 2020: खराब फील्डिंग करने के लिए बुमराह पर भड़के हार्दिक पांड्या, देखें वीडियो

Also Read - Fit India Dialogue: PM मोदी ने विराट कोहली से पूछा, क्या आप को भी YO-YO टेस्ट से गुजरना पड़ता है, जानें टीम इंडिया के कप्तान ने क्या जवाब दिया

गॉ ने कहा, ‘‘ भुवनेश्वर का टीम में नहीं होना बड़ी क्षति है और वह चोटिल होने के कारण एकदिवसीय श्रृंखला में लय में नहीं थे. भारतीय टीम अब वैसी टीम नहीं है जो एक या दो गेंदबाजों पर निर्भर रहे. पहले वह अनिल कुंबले, जवागल श्रीनाथ और जहीर खान पर काफी निर्भर रहते थे, लेकिन अब ऐसी स्थिति नहीं है और वे टेस्ट श्रृंखला के लिए तैयार हैं.’’ Also Read - KKR vs MI: मुंबई की जीत में चमके रोहित, इन 5 खिलाड़ियों ने फैन्‍स को किया सबसे ज्‍यादा इंटरटेन

कोहली के प्रदर्शन से खुश हैं कोच, कहा ‘टेस्ट सीरीज में कोई नहीं रोक पाएगा’

उन्होंने कहा, ‘‘ आप घरलू मैदान पर खेल रहे हो या बाहर आज के दौर में आपको भारत को हराने के लिए अपने खेल के शीर्ष पर रहना होगा क्योंकि उनकी गेंदबाजी में सबकुछ मौजूद हैं. भुवनेश्वर के पास स्विंग है , बुमराह गेंद को स्कीड कराते है, उमेश यादव के पास गति के साथ गेंद को मूव कराने की क्षमता है, मोहम्मद शमी मजबूत है और जोर लगा कर गेंद को पिच पर टप्पा दिलाते है और इशांत शर्मा अनुभवी और आक्रामक है जो लंबी स्पेल डाल सकते हैं.’’

15 पारियों में 11 अर्धशतक जड़ चुका है इंग्लैंड का ये बल्लेबाज, कोहली को करता है फॉलो

गॉ ने कहा कि कुलदीप यादव के आने से भारतीय स्पिन आक्रमण और मजबूत हुआ है. उन्होंने कहा, ‘‘ इन सब से ऊपर आपके पास तीन शानदार स्पिनर हैं. रविचंद्रन अश्विन को भारतीय पिचों पर खेलना लगभग नामुमकिन है, रविन्द्र जडेजा लगातार विकेट झटकते रहते हैं और कुलदीप यादव ने खुद को इंग्लैंड में साबित किया है. टीम का चयन आसान नहीं होगा, भारतीय टीम प्रबंधन को मेरी शुभकामनाएं क्योंकि किसी ना किसी को नाराज होना होगा.’’

धोनी ने श्रेयस अय्यर के टीम इंडिया में एंट्री के बाद अखबार पढ़ने पर लगाया बैन!

इंग्लैंड की टीम में स्पिन गेंदबाज आदिल राशिद और मोइन अली के चयन पर भले ही सवाल उठे हो लेकिन उनके पास कोई विकल्प नहीं था. गॉ ने कहा, ‘‘ टेस्ट टीम में उसका (रशिद) चयन नहीं होना चाहिए क्योंकि उसने लंबे प्रारूप में खेलना छोड़ दिया था. जब उसने घरेलू सत्र की शुरुआत में यार्कशर को बीच मझधार में छोड़ा तो मैं निराश था. मुझे लगता है कि अगर उसने लाल गेंद से थोड़ी ज्यादा मेहनत की होती तो वह इंग्लैंड की टेस्ट टीम का नियमित सदस्य होता. इसमें कोई शक नहीं की वह इंग्लैंड का सर्वश्रेष्ठ स्पिनर है. लेकिन मैं उससे (प्रथम श्रेणी क्रिकेट के प्रति रवैये से) निराश हूं.’’