नई दिल्ली. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से प्रतिबंध का सामना कर रहे डेविड वार्नर ने सिडनी में ग्रेड मैच के दौरान आस्ट्रेलियाई टीम के अपने पूर्व साथी फिलिप ह्यूज के भाई की ‘पीड़ा पहुंचाने वाली’ छींटाकशी के बाद मैदान छोड़ दिया. वार्नर की पत्नी ने यह जानकारी दी. दरअसल फिलिप ह्यूज की 2014 में सिर में गेंद लगने से मौत हो गई थी. Also Read - कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे डॉक्टरों के समर्थन में डेविड वार्नर ने मुंडवाया सिर; स्मिथ-कोहली को किया नॉमिनेट

पुणे वनडे में हार से गुस्साए विराट ने अपनी बल्लेबाजी पर बात करने से किया इंकार Also Read - डेविड वॉर्नर और सुरेश रैना IPL पॉवरप्ले के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं : ब्रैड हॉग

गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण में भूमिका के कारण अंतरराष्ट्रीय और राज्य क्रिकेट से 12 महीने के प्रतिबंध का सामना कर रहे आस्ट्रेलिया के पूर्व उप कप्तान वार्नर इस घटना के समय अपने क्लब रेंडविक-पीटरशैम की ओर से बल्लेबाजी कर रहे थे. वार्नर जब 35 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे तब वापस लौट गए लेकिन इसके कुछ देर बाद टीम के अपने साथियों के कहने पर वापस लौटे और 157 रन की आकर्षक पारी खेली. Also Read - धवन की हालत को देख वार्नर की छूटी हंसी, शोएब मलिक ने पूछा क्‍या डील हुई है ?

एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी में भारत-पाकिस्तान के बीच होगी फाइनल जंग

वार्नर की पत्नी केंडिस वार्नर ने कहा कि फिलिप के भाई जेसन ह्यूज इस घटना के दोषी थे. केंडिस ने चैनल नाइन से कहा, ‘‘देखिए, मैं इसके विस्तार में नहीं जाना चाहती. हालांकि डेविस उसकी टिप्पणी से सकते में था और वे कुछ ज्यादा ही आगे बढ़ गए थे इसलिए उसने खुद को मैच से हटाने का फैसला किया.’’ क्रिकेट आस्ट्रेलिया की वेबसाइट ने दावा किया कि इसकी शुरुआत उकसाने से हुई लेकिन जल्द ही निजी टिप्पणी होने लगी जिसके बाद वार्नर ने हटने का फैसला किया जिससे कि मामला नहीं बढ़े. सिडनी डेली टेलीग्राफ ने दावा किया कि ह्यूज ने वार्नर को ‘दागी’ और ‘कमजोर’ करार दिया. इसने दावा किया कि एक चश्मदीद ने इस दौरान सुना कि फिलिप ह्यूज की मौत का सीधा संदर्भ दिया गया.