नई दिल्ली: बॉल टेम्परिंग मामले में प्रतिबंधित किए गए पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर को उनके क्लबों ने ग्रेड क्रिकेट में खेलने की इजाजत दे दी है. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने वेबसाइट क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू के हवाले से गुरुवार को यह जानकारी दी. रिपोर्टों के अनुसार, स्मिथ की टीम सदरलैंड और वॉर्नर की टीम रैंडविक पीटरशेम पहले ही अपने खिलाड़ियों को समर्थन देने की इच्छा जता चुके हैं.Also Read - T20 World Cup 2021- हमें अपनी टीम पर पूरा भरोसा, 7-4 के कॉम्बिनेशन से उतरेंगे: Aaron Finch

Also Read - खराब फॉर्म से जूझ रहे डेविड वार्नर को मिला शेन वार्न का समर्थन; कहा- विश्व कप मैच में जरूर खिलाया जाय

आईसीसी ने कहा कि स्मिथ और वॉर्नर को सिडनी में ग्रेड क्रिकेट खेलने की अनुमति मिल गई है जबकि बाल टेम्परिंग के अन्य दोषी खिलाड़ी कैमरून बेनक्रॉफ्ट पर ग्रेड क्रिकेट में खेलने को लेकर अभी फैसला होना बाकी है. Also Read - IPL में David Warner के साथ सही व्यवहार नहीं किया गया, वह वर्ल्ड कप में चमकेंगे: Brett Lee

श्रेयस अय्यर को हैदराबाद से मिलेगी कड़ी चुनौती, कोटला में जीत के इरादे से उतरेगी दिल्ली

वेबसाइट क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू के अनुसार, बेनक्रॉफ्ट के ग्रेड क्रिकेट में खेलने को लेकर वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख क्लब सोमवार को एक बैठक करेगी जिसमें बेनक्रॉफ्ट के भाग्य पर निर्णय लिया जाएगा.

न्यू साउथ वेल्स क्रिकेट एसोसिएशन (एनएसडब्ल्यूसीए) ने कहा है कि स्मिथ और वॉर्नर के रास्ते में वह बाधा नहीं बनेंगे और वे अपने-अपने क्लबों सदरलैंड और रैंडविक पीटरशेम क्लबों की ओर से खेलने के लिए उपलब्ध रहेंगे.

कोहली के साथ काम करना चाहते हैं गैरी कर्स्टन, बताया क्यों है विराट सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर

गौरतलब है कि दक्षिण अफ्रीका दौरे पर खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में बॉल टेम्परिंग मामले में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने स्मिथ और वॉर्नर पर एक-एक साल का जबकि बैनक्रॉफ्ट पर नौ महीने का प्रतिबंध लगा रखा है. टीम के कोच डैरेन लेहमन ने भी बाद में सीरीज समाप्त होने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया था.

पूर्व भारतीय क्रिकेटर का निधन, देहरादून में ली अंतिम सांस

बता दें कि इस मसले के बाद स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर ने अपनी गलती स्वीकार कर ली थी. उन्होंने कहा था कि बॉल टेम्परिंग को एक योजना के तहत अंजाम दिया गया था. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए इस टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई टीम को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था, जिसके बाद उनकी कड़ी आलोचना की गई थी. हालांकि कुछ खिलाड़ियों ने सहानुभूति भी जताई थी.