विशाखापत्तनम: सलामी बल्लेबाज पृथ्वी साव के अर्धशतक और ऋषभ पंत की तूफानी पारी से दिल्ली कैपिटल्स ने इंडियन प्रीमियर लीग के बेहद रोमांचक एलिमिनेटर में बुधवार को यहां सनराइजर्स हैदराबाद को दो विकेट से हराकर टूर्नामेंट से बाहर कर दिया. सनराइजर्स के 163 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली की टीम ने पृथ्वी (56) और पंत (49) की पारियों की बदौलत 19.5 ओवर में आठ विकेट पर 165 रन बनाकर जीत दर्ज की. पृथ्वी ने 38 गेंद का सामना करते हुए छह चौके और दो छक्के मारे जबकि पंत की 21 गेंद की पारी में पांच छक्के और दो चौके शामिल रहे.

 

हैदराबाद की ओर से राशिद खान (15 रन पर दो विकेट), खलील अहमद (24 रन पर दो विकेट) और भुवनेश्वर कुमार (42 रन पर दो विकेट) ने उम्दा गेंदबाजी की लेकिन टीम को हार से नहीं बचा पाए. फाइनल में जगह बनाने के लिए अब दूसरे क्वालीफायर में 10 मई को दिल्ली की भिड़ंत चेन्नई सुपरकिंग्स से होगी. इससे पहले सनराइजर्स का कोई बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल पाया लेकिन टीम मार्टिन गुप्टिल के 36, मनीष पांडे के 30, केन विलियमसन के 28 और विजय शंकर के 25 रन की बदौलत आठ विकेट पर 162 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा करने में सफल रही.

 

दिल्ली की ओर से कीमो पाल सबसे सफल गेंदबाज रहे जिन्होंने 32 रन देकर तीन जबकि इशांत शर्मा ने 34 रन देकर दो विकेट चटकाए. लेग स्पिनर अमित मिश्रा ने किफायती गेंदबाजी करते हुए 16 रन देकर एक विकेट हासिल किया. लक्ष्य का पीछा करने उतरी दिल्ली की टीम को पृथ्वी और शिखर धवन (17)की जोड़ी ने 66 रन जोड़कर तेज शुरुआत दिलाई. दोनों ने पावर प्ले में बिना विकेट खोए टीम का स्कोर 55 रन तक पहुंचाया. धवन ने भुवनेश्वर के पहले ओवर में लगातार दो चौकों के साथ शरुआत की. पृथ्वी ने शुरू से ही आक्रामक रुख अपनाया. उन्होंने खलील अहमद के ओवर में तीन चौके मारे लेकिन मोहम्मद नबी की गेंद पर भाग्यशाली रहे जब मिड आफ पर बासिल थम्पी ने आसान कैच टपका दिया.

पृथ्वी ने भुवनेश्वर की लगातार गेंदों पर दो चौके और एक छक्का जड़ा. उन्होंने दीपक हुड्डा का स्वागत भी छक्के के साथ किया लेकिन धवन इस आफ स्पिनर की गेंद को आगे बढ़कर खेलने की कोशिश में स्टंप हो गए. पृथ्वी ने हुड्डा की गेंद पर एक रन के साथ 31 गेंद में अर्धशतक पूरा किया. खलील ने कप्तान श्रेयस अय्यर (08) और पृथ्वी को एक ही ओवर में पवेलियन भेजकर सनराइजर्स को वापसी दिलाई. अय्यर ने विकेटकीपर रिद्धिमान साहा को कैच थमाया जबकि पृथ्वी प्वाइंट पर विजय शंकर को कैच दे बैठे. पृथ्वी ने 38 गेंद का सामना छह चौके और दो छक्के मारे.

सनराइजर्स के रनों का शतक 14वें ओवर में पूरा हुआ. कोलिन मुनरो (14) ने बासिल थंपी के इस ओवर में चौका और छक्का जड़ा. राशिद ने अगले ओवर में मुनरो को पगबाधा करने के बाद अक्षर पटेल (00) को साहा के हाथों कैच कराके दिल्ली का स्कोर पांच विकेट पर 111 रन किया. यह ओवर मेडन रहा. अक्षर हालांकि दुर्भाग्यशाली रहे क्योंकि गेंद उनके पैड से लगी थी लेकिन मुनरो के डीआरएस गंवाने के कारण वह इसका उपयोग नहीं कर सके. दिल्ली को अंतिम पांच ओवर में जीत के लिए 52 रन की दरकार थी. ऋषभ पंत ने नबी जबकि शेरफेन रदरफोर्ड ने भुवनेश्वर पर छक्का जड़कर रन गति में इजाफा किया. पंत ने 18वें ओवर में थम्पी की लगातार गेंदों पर दो चौके और दो छक्के जड़कर दिल्ली का पलड़ा भारी किया.

 

दिल्ली को अंतिम दो ओवर में जीत के लिए 12 रन की जरूरत थी. रदरफोर्ड (09) हालांकि भुवनेश्वर की गेंद पर नबी को कैच दे बैठे. पंत ने भुवनेश्वर पर छक्का मारा लेकिन इसी ओवर में नबी को कैच दे बैठे. अंतिम ओवर में दिल्ली को जीत के लिए पांच रन चाहिए थे. टीम ने तीन गेंद पर तीन रन बनाए लेकिन अमित मिश्रा (01) क्षेत्ररक्षण में बाधा पहुंचाने पर रन आउट करार दिए गए. दिल्ली को अंतिम दो गेंद में दो रन की दरकार थी और कीमो पाल (नाबाद 05) ने खलील पर चौका जड़कर टीम को जीत दिला दी.

इससे पहले दिल्ली के कप्तान श्रेयस अय्यर ने टास जीतकर सनराइजर्स को पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया. गुप्टिल ने सनराइजर्स को तेज शुरुआत दिलाई लेकिन गेंदबाजों ने दिल्ली को वापसी दिलाई. गुप्टिल ने इशांत पर छक्का जड़ने के बाद ट्रेंट बोल्ट पर लगातार दो छक्के मारे. इशांत ने रिद्धिमान साहा (08) को मिड आफ पर अय्यर के हाथों कैच कराके दिल्ली को पहली सफलता दिलाई. गुप्टिल ने अक्षर पटेल का स्वागत भी छक्के के साथ किया जबकि मनीष पांडे ने इशांत पर दो चौके मारे जिससे टीम ने पावर प्ले में एक विकेट पर 54 रन बनाए. श्रेयस ने इसके बाद गेंद मिश्रा को थमाई और इस लेग स्पिनर ने गुप्टिल को कीमो पाल के हाथों कैच करा दिया. गुप्टिल ने 19 गेंद का सामना करते हुए चार छक्के और एक चौका मारा.

पांडे और विलियनसम को मिश्रा और अक्षर की फिरकी के सामने स्ट्राइक रोटेट करने में परेशानी हुई. सनराइजर्स ने 10 ओवर में दो विकेट पर 70 रन बनाए. बल्लेबाजों पर रन गति में इजाफा करने का दबाव दिख रहा था और ऐसे में पांडे कीमो पाल पर बड़ा शाट खेलने की कोशिश में रदरफोर्ड को कैच दे बैठे. पांडे ने 36 गेंद की पारी में तीन चौके मारे. विलियमसन ने रदरफोर्ड पर चौके के साथ 15वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया लेकिन इशांत ने उन्हें बोल्ड कर दिया. विलियमसन ने 27 गेंद का सामना करते हुए दो चौके जड़े.

मोहम्मद नबी ने इशांत पर चौके से खाता खोला और फिर अक्षर पर भी चौका जड़ा. विजय शंकर ने भी अक्षर पर छक्का मारा. विजय शंकर ने 19वें ओवर में बोल्ट की लगातार गेंदों पर चौका और छक्का मारा लेकिन अगली गेंद को बाउंड्री पर अक्षर के हाथों में खेल गए. उन्होंने 11 गेंद का सामना करते हुए दो छक्के और दो चौके मारे. नबी ने अंतिम ओवर में कीमो पाल पर छक्का जड़ा लेकिन इसके बाद अक्षर को कैच देकर पवेलियन लौट गए. दीपक हुड्डा रन आउट हुए जबकि कीमो पाल ने राशिद खान को विकेट के पीछे कैच कराया. सनराइजर्स की टीम अंतिम छह ओवरों में विजय शंकर और नबी (20) की पारियों की बदौलत 69 रन जोड़ने में सफल रही.