बांग्‍लादेश के खिलाफ 22 नवंबर से भारत अपना पहला डे नाइट टेस्‍ट कोलकाता के ईडन गार्डन में खेलेगा. ऐसे में मैच के दौरान रात को ओस के चलते गेंद बार-बार गीली भी होगी. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज डीन जोन्स का इस समस्‍या से निजात पाने के लिए एक बीसीसीआई को सलाह दी है.

डीन जोन्‍स का मानना है कि अगर गुलाबी गेंद गीली होती है तो उसे बदल दिया जाना चाहिए. भारत में सर्दियों का सीजन आ गया है. 22 नवंबर आते-आते ठंड और बढ़ जाएगी. ऐसे में कोलकाता टेस्‍ट में ओस का प्रभाव होना तय है.

पढ़ें:- ICC ने कीवी कप्‍तान पर लगाई रोक को हटाया, विलियमसन अब कर सकेंगे यह काम

जोन्स ने पीटीआई से बात करते हुए कहा, ‘‘भारत डे-नाइट खेल रहा है, यह एक शानदार कदम है. ओस के चलते समस्या चिंता की बात जरूर है. अगर गेंद गीली हो गई है तो इसे बदल दीजिए.’’

कंगारू बल्‍लेबाज ने कहा, ‘‘अब खेल के नियम काफी बदल गए हैं. उदाहरण के लिए (सर डान) ब्रैडमैन के समय में अगर टीम 200 रन बना लेती थी तो दूसरी नई गेंद मिल जाती थी. हम रात को मैच खेल रहे हैं, अगर गेंद गीली हो जाती है तो इसे बदल दीजिए. जहां तक मेरा सवाल है तो यह सामान्य सी बात है.’’

जोन्स ने कहा कि टेस्‍ट क्रिकेट में फैन्‍स का उत्‍साह बनाए रखने के मामले में डे नाइट टेस्‍ट ऑस्ट्रेलिया में सफल रहा है.
‘‘नए बीसीसीआई अध्‍यक्ष सौरव गांगुली शायद डे नाइट टेस्ट क्रिकेट के बड़े प्रशंसक हैं. गुलाबी गेंद से क्रिकेट खेल का भविष्य है क्योंकि लोगों का जीवन व्यस्त है.’’

पढ़ें:- दिल्‍ली टी20 से पहले भारत को बड़ा झटका, रोहित शर्मा प्रैक्टिस सेशन के दौरान हुए चोटिल

डीन जोन्स ने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया में इसे शानदार रेटिंग्स मिली और मैं आपको बता नहीं सकता कि सभी टेस्ट मैचों की तुलना में यह कितना बड़ा था. लोगों को दिन के समय टेस्ट क्रिकेट देखने में काफी मुश्किल होती है क्योंकि वे काफी व्यस्त हैं.’’

जोन्‍स ने कहा, ‘‘इसमें कोई संदेह नहीं कि गुलाबी गेंद मूव करती है. यह मसला केवल सामंजस्य बैठाने से जुड़ा है. टेस्ट क्रिकेट में आपको ऐसा ही करना चाहिए.’’