जरा सी चूक से पदक की दौड़ से बाहर हुई दीपा करमाकर और भारत के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है। रूसी हैकिंग ग्रुप ‘फेंसी बीयर्स’ ने मंगलवार को दावा किया कि उसने वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (वाडा) का डाटाबेस हैक किया है, इससे पता चला है कि चार गोल्ड जीतने वाली जिमनास्ट सिमोन बाइल्स सहित अमेरिकी टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स, उनकी बहन वीनस विलियम्स और अमेरिकी बास्केटबॉल स्टार एलेना डेले डोने को बैन ड्रग्स लेने की इजाजत थी इन्हें वाडा ने डोपिंग का लाइसेंस दिया था। Also Read - बजरंग पूनिया व रवि दहिया ने बढ़ाया देश का मान, विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में जीता कांस्य पदक

Also Read - एशियन गेम्स 2018: भारत ने पाकिस्तान को हॉकी में हराया, जीता बॉन्ज मेडल

फेंसी बीयर्स के मुताबिक अमेरिकी खिलाड़ियों के डोप टेस्ट में फेल होने के बावजूद ओलंपिक में खेलने का मौका दिया गया जिसमें सिमोन बाइल्स भी शामिल थीं। सिमोन बाइल्स ने जिम्नास्टिक में गोल्ड अपने नाम किया था और दीपा चौथे स्थान पर रहीं थीं। Also Read - कांस्टेबल की 16 साल की बेटी ने एशियाड में जीता पदक, बधाइयों का तांता

अगर यह दावा सच निकला तो इन खिलाड़ियों से उनका ओलंपिक पदक छिन जाने की पूरी उम्मीद है। ऐसे में भारत की जिमनास्ट दीपा करमाकर को कांस्य पदक मिल जाएगा। इसके अलावा टेनिस के मिक्स्ड डबल्स में वीनस विलियम्स और राजीव राम से हारकर चौथे स्थान पर रही सानिया और बोपन्ना की जोड़ी को भी कांस्य मिल सकता है। हैकिंग ग्रुप ने दावा किया है कि उसने अमेरिकी एथलीटों से जुड़ी कई फाइलों को हैक किया और इसके बाद यह बड़ा खुलासा हो सका।

ग्रुप के मुताबिक वर्ल्ड की पूर्व नंबर.1 महिला टेनिस स्टार सेरेना को 2010, 2014 और 2015 में ऑक्सीकोडोन, हाइड्रोमोफरेन, प्रेडनीसोन और मिथाइलप्रेडनिसोलोन लेने की इजाजत थी। वीनस को 2010, 2012 और 2013 में प्रेडनिसोन, प्रेडनिसोलोन और ट्रायेमसिलोन जैसी दवाओं के सेवन की इजाजत थी। ग्रुप ने यह भी दावा किया है कि सिमोन बाइल्स तो एक बार डोप टेस्ट में नाकाम भी हुई थीं लेकिन इसके बाद भी उन्हें बैन नहीं किया गया। यह भी पढ़ें: जानिए भारतीय जिमनास्ट दीपा करमाकर ने कैसे तय किया ओलम्पिक तक का सफ़र

10 बार की विश्व गोल्ड मेडल विनर बाइल्स को अगस्त 2016 में डोप टेस्ट में मेथिलफेंडिनेट के सेवन का दोषी पाया गया था लेकिन वे अयोग्य नहीं करार दी गईं। साल 2013 और 2014 में उन्हें डेक्ट्रोएम्फेटामीन के सेवन की इजाजत थी। वहीं अमेरिकी बास्केटबॉल स्टार एलेना डेले डोने के ड्रग टेस्ट से पता चला कि उन्होंने भी एम्फेटेमाइन का सेवन किया है। साल 2014 में वे हाइड्रोकार्टिसोन के सेवन की दोषी पाई गई थीं, जो एक प्रतिबंधित दवा है।

गौरतलब है कि डोपिंग के कारण पूरी रूसी टीम रियो में हिस्सा नहीं ले सकी थी और इसी के बाद रूसी हैकिंग टीम वाडा की वेबसाइट हैक करने में लगी हुई थी। कुछ समय पहले वाडा ने इसका खुलासा भी किया था कि रूसी हैकर उसकी साइट हैक करने की कोशिश कर रहे हैं।