नई दिल्ली : एफसी पुणे सिटी ने हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें संस्करण में बुधवार को दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में खेले गए अपने पहले मुकाबले में मेजबान दिल्ली डायनामोज को 1-1 से ड्रॉ पर रोक दिया. इस मुकाबले में राना घारामी ने मेजबान टीम के लिए 44वें मिनट में गोल कर दिल्ली को बढ़त दिला दी लेकिन डिएगो कार्लोस ने 88वें मिनट में गोल कर जीत की ओर जाती दिख रही दिल्ली को अंक बांटने पर मजबूर कर दिया. आईएसएल में कुल नौ बार दिल्ली का सामना करने वाली पुणे की टीम केवल एक बार ही जीत दर्ज करने में कामयाब हो पाई है.

दोनों टीमों ने मैच की आक्रामक शुरुआत की और विंग से अटैक करके गोल करने का प्रयास किया. चौथे मिनट में पुणे के फारवर्ड असीक कुरुनीयन ने बाएं छोर से बेहतरीन अटैक किया लेकिन बॉक्स में मौजूद स्ट्राइकर इमिलियानो अल्फारो गेंद तक पहुंचने में कामयाब नहीं हो पाएं.

मेजबान टीम ने अगले ही मिनट इस अटैक का जवाब दिया. मिडफील्डर नंदा कुमार ने विंग से अटैक किया. यहां उनका शॉट लेने के लिए दिल्ली का कोई भी खिलाड़ी मौजूद नहीं था इसलिए मेजबान टीम गोल करने से चूक गई.

राजकोट में विराट कोहली को मिला ‘सिक्के’ का साथ, इतने टॉस हारने के बाद बनी बात

मैच के 13वें मिनट में कुरुनीयन ने बाएं फ्लैंक पर एक बार फिर खलबली मचाई. उन्होंने दिल्ली के डिफेंडर को छकाते हुए बॉक्स में बेहतरीन पास दिया लेकिन इस बार भी अल्फारो गेंद को गोल में डालने में सफल नहीं हो पाए.

दिल्ली ने गोल पर अपना पहला शॉट 17वें मिनट में दागा. डिफेंडर नारायण दास ने बाईं छोर से कलात्मकता दिखाते हुए पुणे के बॉक्स में प्रवेश किया. पुणे के गोलकीपर विशाल कैथ हालांकि उनकी राह का रोड़ा बना गए.

इसके बाद, दोनों टीमो ने विंग के साथ मिडफील्ड से भी अटैक करने का प्रयास किया. 44वें मिनट में दिल्ली के डिफेंडर राणा ने करीब 35 गज की दूरी से दमदार शॉट लिया जो नेट में में गया और मेजबान टीम को बढ़त दिला दी.

टेस्ट क्रिकेट में भारत के दूसरे सबसे युवा ओपनर बने पृथ्वी शॉ, ICC ने दी बधाई

पहले हाफ के अंतिम क्षणों में किए गए गोल के कारण दिल्ली ने दूसरे हाफ की शुरुआत में भी आत्मविश्वास से भरी हुई नजर आई और 48वें मिनट में मेजबान टीम ने कॉर्नर अर्जित किया. स्लोवेनिया के मिडफील्डर रेने मिहेलिक ने कॉर्नर से ही गोल करने का प्रयास किया जो बाहर चला गया.

लल्लियनजुआला चंगते ने 62वें मिनट में बाईं छोर पर अपना जौहर दिखाया और गोल करने का प्रयास किया. कैथ ने संयम नहीं खोया और आसानी गेंद को अपने नियंत्रण में लेकर दिल्ली की बढ़त को दोगुना होने से रोक दिया. इसेक पांच मिनट बाद, आंद्रिजा कलुद्रुविच को बॉक्स के अंदर गोल करने का शानदार मौका मिला जिसे वह गंवा बैठे.

मैच के अंतिम 10 मिनटों में पुणे के कोच मिगुएल पुर्तगाल ने अपने ज्यादातर खिलाड़ियों को आक्रमण करने का निर्देश दिया जिसका परिणाम 88वें मिनट में देखने को मिला. 69वें मिनट में मैदान पर उतरे कार्लोस ने बाईं छोर से बेहतरीन अटैक किया और मेहमान टीम के लिए बराबरी को गोल दाग दिल्ली को विजयी शुरुआत से वंचित कर दिया.