नई दिल्ली: राजस्थान रॉयल्स के तेज गेंदबाज धवल कुलकर्णी का मानना है कि उनकी टीम राजस्थान रॉयल्स में आईपीएल 2018 के अपने अगले मैच में दो बार की पूर्व विजेता कोलकाता नाइट राइडर्स को हराने के लिए जरूरी आत्मविश्वास है. राजस्थान और कोलकाता इस समय प्लेऑफ की दौड़ में बनी हुई हैं. यह दोनों टीमें आगे भी इस रेस में रहेंगी या नहीं इस बात का फैसला कई हद तक दोनों के बीच होने वाले अगले मैच पर निर्भर करता है. Also Read - IPL में बैटिंग सलाहकार की भूमिका निभाना चाहते हैं विनोद कांबली, कहा-युवाओं का कर सकता हूं मार्गदर्शन

Also Read - IPL 2021 : मेगा ऑक्शन में इन 3 खिलाड़ियों को रिटेन कर सकती है Chennai Super Kings, ये है वजह

राजस्थान ने रविवार को मुंबई इंडियंस को मात देकर अपनी प्लेऑफ में जाने की संभावनाओं को जिंदा रखा है. ईडन गार्डन्स स्टेडियम में खेले जाने वाले मैच से पहले आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कुलकर्णी ने कहा, “हमारे लिए अब बाकी के सभी मैच अहम हैं. अगले मैच में हमारे पास कोलकाता को मात देने का अच्छा मौका है. हमने जो लय हासिल की है मैं आश्वस्त हूं कि हम उन्हें हराने में कामयाब हो पाएंगे.” Also Read - India vs Australia: हरभजन सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए चुने भारतीय सलामी बल्लेबाज

पंजाब पर प्लेऑफ से बाहर होने का खतरा, रविचन्द्रन अश्विन ने बताया कैसे जगह बनायेगी टीम

पिछले मैच में मिली जीत के बाद राजस्थान की टीम अंकतालिका में पांचवें स्थान पर आ गई है. यह उनकी लगातार तीसरी जीत थी. इस मैच में जोस बटलर ने शानदार 94 रनों की पारी खेल टीम को जीत दिलाई थी.

कुलकर्णी ने बटलर को ऊपरी क्रम में भेजने के बारे में कहा, “यह टीम के कप्तान, हेड ऑफ क्रिकेट जुबीन बारुचा, मेंटॉर शेन वॉर्न, बल्लेबाजी कोच अमोल मजूमदार द्वारा लिया गया फैसला था. वह हमारे लिए काफी अच्छा कर रहे हैं और हमें उम्मीद हैं कि वह ऐसा करना जारी रखेंगे.”

हैदराबाद को हराने के बाद महेन्द्र सिंह धोनी को मिला ‘क्यूट सैल्यूट’

बता दें कि राजस्थान रॉयल्स पॉइंट टेबल में चौथे स्थान पर चल रही है. उसने अब तक 12 मैच खेले. इस दौरान 6 मैचों में जीत और 6 मैचों में हार का सामना किया है. उसे आईपीएल 2018 के प्लेऑफ में पहुंचे के लिए बचे हुए दोनों मुकाबले बड़े अंतर से जीतने होंगे. राजस्थान से पहले चेन्नई और हैदराबाद प्लेऑफ में पहुंच चुकी हैं. अब प्लेऑफ में दो टीमों के लिए जगह बची है. इसके लिए राजस्थान के अलावा कोलकाता और पंजाब भी इसी फेहरिस्त में शामिल हैं.