नई दिल्ली. मैक्सवेल 150 से भी ज्यादा की स्ट्राइक रेट से भारतीय गेंदबाजों पर बरस रहे थे. फिंच के आउट होने से शतकीय ओपनिंग साझेदारी टूटने के बाद मैच में टीम इंडिया की वापसी की जो उम्मीद जगी थी, उस पर मैक्सवेल अपने मार-धाड़ से भरपूर क्रिकेट की बदौलत पानी फेरते जा रहे थे. ऐसे में टीम इंडिया के लिए ये जरूरी हो गया था कि जल्दी से जल्दी मैक्सवेल पर नकेल कसी जाए, जिसे बखूबी अंजाम दिया धोनी और जडेजा ने अपनी जुगलबंदी से.

जडेजा का जोश, धोनी की सोच

रांची के रण में धोनी-जडेजा की ये जुगलबंदी क्या थी अब जरा उसे इस वीडियो में देखिए और समझिए.

ये वीडियो ऑस्ट्रेलियाई पारी के 42वें ओवर की आखिरी गेंद का है. मैक्सवेल 31 गेंदों पर 47 रन बना चुके थे. यानी, उनका स्ट्राइक रेट इस वक्त करीब 152 का था, जिसका सीधा मतलब है कि वो बड़ा खतरा बनते जा रहे थे. लेकिन तभी जडेजा के इस जबरदस्त थ्रो और उससे भी बढ़कर धोनी के उस अंदाज, जिसके लिए वो मशहूर हैं, मैक्सवेल के खेल का अंत कर दिया.

झटका एक, असर अनेक

ये ऑस्ट्रेलिया को लगा बहुत बड़ा झटका था. इसका असर मार्श और हैंड्सकॉम्ब की बल्लेबाजी पर सीधा देखने को मिला, जिनमें एक दहाई का आंकड़ा नहीं पार कर सका तो दूसरे के लिए तो खाता खोलना भी दुभर हो गया. जडेजा के साथ धोनी की ये जुगलबंदी देखकर रांची का कोना-कोना झूम उठा और जो ऑस्ट्रेलियाई टीम एक वक्त 350 प्लस की ओर बढ़ती दिख रही थी वो 313 रन पर ही सिमट गई.