नई दिल्ली. महेन्द्र सिंह धोनी का फॉर्म बेशक अभी टीम इंडिया के लिए चिंता की वजह बना हुआ है लेकिन 13 साल पहले आज ही के दिन धोनी ने अपने बल्ले से श्रीलंका को धो डाला था. जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम पर 31 अक्टूबर 2005 को खेले उस मैच में धोनी ने श्रीलंकाई गेंदबाजों के परखच्चे उड़ाते हुए जबरदस्त धमाका किया था. Also Read - राजीव गांधी खेल रत्न पाने वाले चौथे क्रिकेटर बन सकते हैं रोहित शर्मा; जानें क्यों हैं इस सम्मान के हकदार

धोनी के धमाके ने लूटी ‘लंका’! Also Read - विराट कोहली ने कहा- मेरे कप्तान बनने के पीछे महेंद्र सिंह धोनी का बड़ा हाथ

श्रीलंका के खिलाफ भारतीय टीम 299 रन के बड़े लक्ष्‍य का पीछा कर रही थी और सचिन तेंदुलकर-वीरेंद्र सहवाग की जोड़ी सिर्फ 31 रन पर टूट गई थी. लेकिन उस दिन चामिंडा वास, मुथैया मुरलीधरन, दिलहरा फर्नांडो, परवेज महारूफ जैसे स्‍टार गेंदबाजों से सजी श्रीलंकाई टीम को लंबे बालों वाले धोनी ने अकेले ही धो दिया था. Also Read - जेपी ड्यूमिनी की ऑल टाइम IPL इलेवन में MS धोनी को जगह नहीं, सिर्फ ये दो भारतीय शामिल

विकेटकीपर बल्लेबाज का सबसे बड़ा स्कोर

धोनी ने 145 गेंदों पर 15 चौकों और 10 छक्‍कों की मदद से 183 रन की नाबाद पारी खेली और विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर वनडे इतिहास का सबसे बड़ा निजी स्कोर बना डाला, जो कि आज भी कायम है. धोनी से पहले यह रिकॉर्ड ऑस्‍ट्र‍ेलिया के एडम गिलक्रिस्ट (172) के नाम था. हालांकि गिलक्रिस्‍ट अब तीसरे नंबर पर हैं और साउथ अफ्रीका के क्विंटन डी कॉक (178) दूसरे नंबर पर हैं.

एक शतक कई रिकॉर्ड

धोनी की वो पारी कई मायनों में खास थी. पहली बार किसी भारतीय बल्लेबाज ने स्‍कोर को चेज करते हुए 150 प्‍लस रन की पारी खेली थी. जबकि यह साल 2005 में वनडे क्रिकेट में किसी भी खिलाड़ी का सर्वोच्‍च स्‍कोर था. धोनी की 183 रन की पारी में 10 छक्के शामिल थे. उस वक्त एक पारी में 10 छक्के लगाने वाले धोनी पहले भारतीय बल्लेबाज भी बने थे.