नई दिल्ली. सनराइजर्स के खिलाफ क्वालिफायर मुकाबले में चेन्नई का पेंच फंस चुका था. एक छोर से चटकते विकेटों ने सुपरकिंग्स की हालत पतली कर रखी थी. तभी 22 गज की एरिया में एंट्री लेते हैं शार्दुल ठाकुर और सारा समीकरण हैदराबाद से चेन्नई की ओर शिफ्ट हो जाता है. मैच के बाद शार्दुल ने कहा कि उनके इस कमाल के पीछे उनके बल्ले से ज्यादा कप्तान धोनी के दिए टिप्स का हाथ है, जिसे उन्होंने बस मैदान पर आकर अमलीजामा पहनाया है. मैदान पर कदम रखने से पहले धोनी ने शार्दुल से क्या कहा वो बताएंगे आपको लेकिन उससे पहले ये समझ लीजिए कि सिर्फ 5 गेंदों पर शार्दुल ने चेन्नई की बिगड़ी हालत को कैसे दुरुस्त कर दिया.

5 गेंदों वाला शार्दुल का तूफान

शार्दुल ने सनराइजर्स के खिलाफ 5 गेंदों पर नाबाद 15 रन बनाए. ये रन उन्होंने 300 की स्ट्राईक रेट से बनाए और इसमें उन्होंने 3 चौके जड़े. शार्दुल की इस धमाकेदार पारी का सबसे बड़ा फायदा ये हुआ कि दूसरे छोर पर अकेले लड़ रहे फैफ डूप्लेसिस का काम आसान होगा और चेन्नई की जीत का प्लैटफॉर्म भी तैयार हो गया.

बड़े काम के धोनी के टिप्स 

सनराइजर्स हैदराबाद की इस गलती की वजह से CSK को मिला फाइनल का टिकट

सनराइजर्स हैदराबाद की इस गलती की वजह से CSK को मिला फाइनल का टिकट

इस विस्फोटक पारी को खेलने के बाद शार्दुल से जब ये सवाल किया गया कि क्या मैदान पर उतरने से पहले धोनी ने उन्हें कोई टिप्स दिया था. तो शार्दुल ने कहा, ‘ धोनी का सिंपल कहना था कि हर बॉल को उसकी मेरिट के हिसाब से खेलना है.’ बस मैंने इसी फॉर्मूले पर अमल किया और मैच में जीत का रास्ता तैयार हो गया.

हर फैसले के पीछे धोनी की चाल

शार्दुल ने बताया कि मैदान पर धोनी कोई भी फैसला अचानक नहीं लेते. उस फैसले के लिए वो पूरा समय लेते हैं. कहने का मतलब ये कि हर फैसले के पीछे उनकी सोची-समझी रणनीति होती है. यही वजह है टीम सफल रहती है.

‘पानी पिलाने’ और ‘जूते खाने’ वाले ने चमकाई चेन्नई की किस्मत, धोनी बोले- ‘वाह’

‘पानी पिलाने’ और ‘जूते खाने’ वाले ने चमकाई चेन्नई की किस्मत, धोनी बोले- ‘वाह’

बता दें कि ये लगातार दूसरा साल है जब शार्दुल IPL का फाइनल खेलेंगे. इससे पहले वो पिछले साल राइंजिंग पुणे सुपरजाइंट की ओर से IPL का फाइनल खेले थे पर जीत नहीं सके थे.