नई दिल्ली : विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने मंगलवार को कहा कि वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज से बाहर किये जाने के बावजूद भारत की विश्व कप टीम में जगह बनाने के प्रति आश्वस्त थे और इसका श्रेय पिछले दो साल में अपने प्रदर्शन में निरंतरता को दिया. टीम के अधिकतर खिलाड़ियों के नाम तय थे लेकिन सोमवार को टीम घोषित किये जाने के बाद से ऋषभ पंत पर कार्तिक को प्राथमिकता देना चर्चा का विषय बना हुआ है. मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने कहा कि कार्तिक को बेहतर विकेटकीपर होने के कारण चुना गया.

अब जबकि टीम का चयन हो गया है तो कार्तिक खुश हैं और अगले एक महीने अपना पूरा ध्यान कोलकाता नाइटराइडर्स की अगुवाई करने पर लगाना चाहते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं अभी बहुत खुश हूं लेकिन अभी हम एक टूर्नामेंट (आईपीएल) में खेल रहे हैं. अगर मैं यह कहता हूं कि मैं चयन के बारे में बहुत सोच रहा था तो यह झूठ होगा. मैंने चयन वाले दिन सुबह ही इस पर विचार किया. एक टीम का कप्तान होने के नाते मैं हर किसी की मदद करने की कोशिश करता रहा हूं और वर्तमान काम पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं. ’’

रायडू को टीम इंडिया में मिलनी चाहिए थी जगह, गंभीर ने वर्ल्ड कप 2019 पर दी प्रतिक्रिया

विश्व कप से पहले भारत की आखिरी सीरीज ऑस्ट्रेलिया से थी जिसमें कार्तिक को नहीं चुना गया. इससे वह हैरान थे लेकिन तब भी आशावादी बने हुए थे. कार्तिक ने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलियाई सीरीज के लिये नहीं चुने जाने पर मैं थोड़ा हैरान था लेकिन मुझे भरोसा था कि जो होना है वह होकर रहेगा. कुछ चीजें आपके नियंत्रण में नहीं होती और बेहतर यही होता है कि आप उसके बारे में नहीं सोचें. मैंने उस दौर में क्रिकेट के लिहाज से खुद को सर्वश्रेष्ठ स्थिति में रखा. ’’

World Cup 2019: टीम इंडिया के स्टार बॉलर्स की ‘चोट’ से जुड़ा है इन 4 खिलाड़ियों का ‘भविष्य’

चयनकर्ताओं ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम का चयन करने से पहले कार्तिक से बात नहीं की थी लेकिन उन्होंने कहा कि इन पांच व्यक्तियों ने बहुत पहले अपने इरादे जतला दिये थे. उन्होंने कहा, ‘‘ टीम (ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के लिये) घोषित किये जाने से पहले चयनकर्ताओं से कोई बात नहीं हुई थी लेकिन बहुत पहले उन्होंने साफ कर दिया था कि वे मुझे पर्याप्त मौके देंगे और उन्हें भी जो इस स्थान के लिये प्रतिस्पर्धा में हैं. यह बहुत पहले बता दिया गया था और हम सभी इससे अवगत थे. ’’