भारत की चक्का फेंक महिला एथलीट संदीप कुमारी पर डोप टेस्ट में फेल होने के कारण 4 साल का प्रतिबंध लगा दिया गया है. संदीप पर ये बैन विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) की एथलेटिक्स इंटीग्रिटी इकाई ने लगाया है. Also Read - भारतीय शॉटपुट एथलीट डोप टेस्ट में हुआ फेल, लगा 4 साल का बैन

कोरोना के कहर के बीच R Ashwin को सता रहा अब ये डर, T20 लीग को लेकर दिया बड़ा बयान Also Read - इंडिया ओपन चैंपियन भारतीय महिला मुक्केबाज नीरज डोप टेस्ट में फेल, सस्पेंड

महिला एथलीट ने 2018 में राष्ट्रीय अंतरराज्यीय चैंपियनशिप में 58.51 मीटर चक्का थ्रो कर गोल्ड मेडल जीता था. इसी चैंपियनशिप के दौरान नाडा के अधिकारियों ने उनका नमूना जून में गुवाहाटी में लिया था. लगभग दो साल पहले राष्ट्रीय डोप परीक्षण प्रयोशाला (एनडीटीएल) ने नमूने का सही पाया था लेकिन एनडीटीएल प्रतिबंधित पदार्थ ‘स्टेराइड’ का पता लगाने में विफल रही थी जो उनके नमूने में मौजूद था. Also Read - Yusuf Pathan case pending with WADA | युसूफ पठान का मामला लंबित है : वाडा

वाडा ने कनाडा में मांट्रियल प्रयोगशाला में कुमारी के नमूने का परीक्षण करने का फैसला किया और नवंबर 2018 में यह एनाबोलिक स्टेराइड मेटेनोलोन का पॉजिटिव आया था.

रिषभ पंत बोले- MS Dhoni मेरी मदद करते तो हैं लेकिन समस्या का पूरा समाधान नहीं बताते

कुमारी के 26 जून 2018 से 21 नवंबर 2018 तक के नतीजों को रद्द कर दिया जाएगा. वाडा ने शुक्रवार रात को घोषणा की कि उनका चार साल का प्रतिबंध 26 जून 2018 से शुरू होगा जिस दिन उनका नमूना लिया गया था.

सिर्फ कुमारी का ही नहीं बल्कि 2017 एशियाई चैंपियन निर्मला श्योराण का भी नमूना एनडीटीएल की जांच में नेगेटिव आया था लेकिन मांट्रियल के परीक्षण में इसे पॉजिटिव पाया गया. जुमा खातून पर भी पिछले महीने चार साल का प्रतिबंध लगाया गया था.