नई दिल्ली। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कपिल देव और हार्दिक पंड्या के बीच तुलना को बकवास करार दिया है. अपने वक्त के इस धाकड़ बल्लेबाज ने कहा कि कपिल देव 100 साल में एक बार पैदा होने वाले क्रिकेटर हैं और किसी से उसकी तुलना नहीं हो सकती. इन दोनों क्रिकेटरों की तुलना करने की कुछ विशेषज्ञों की आदत के बारे में जब पूछा गया तो गावस्कर इससे बिलकुल भी प्रभावित नहीं दिखे. Also Read - IPL 2020: 600 रन पार हुए केएल राहुल, विराट कोहली के खास क्लब में शामिल

Also Read - IPL 2020 RCB vs SRH Live Streaming: कब और कहां देख सकेंगे बैंगलोर-हैदराबाद मैच

कपिल शताब्दी में पैदा होने वाले क्रिकेटर Also Read - सूर्यकुमार यादव को घूर रहे थे विराट कोहली, अब मुंबई इंडियंस ने यूं दिया जवाब

नाराज दिख रहे गावस्कर ने एक न्यूज चैनल से कहा, कपिल देव से किसी की तुलना नहीं की जानी चाहिए. वह एक पीढ़ी में एक बार पैदा होने वाला खिलाड़ी नहीं बल्कि 100 साल में एक बार पैदा होने वाला क्रिकेटर है जैसे कि सर डॉन ब्रैडमैन और सचिन तेंदुलकर. हमें किसी से उनकी तुलना नहीं करनी चाहिए.

भारतीय बल्लेबाजों से नाखुश गावस्कर

गावस्कर लंबे प्रारूप में सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के रवैये से भी नाखुश हैं. दिल्ली के इस खिलाड़ी ने बर्मिंघम में पहले टेस्ट में 26 और 13 रन की पारी खेली. गावस्कर ने कहा कि शिखर अपने खेल में बिलकुल भी बदलाव नहीं करना चाहता. उसका विश्वास उसी तरह से खेलने में हैं जिसने उसे अब तक सफलता दिलाई है. आप वनडे क्रिकेट में ऐसे शॉट खेलने के बावजूद बच सकते हो क्योंकि काफी स्लिप नहीं होती और बल्ले का किनारा लेकर गेंद स्लिप क्षेत्र से बाउंड्री तक जा सकती है.

’50 दिन नहीं खेलेगा तो भी शतक ठोकेगा’, विराट कोहली को लेकर सुनील गावस्कर का दावा

गावस्कर ने कहा, लेकिन टेस्ट में, इस तरह के शाट का नतीजा सिर्फ विकेट गंवाना होगा. खिलाड़ी जब तक मानसिक रूप से बदलाव नहीं करता तब तक विदेशों में लाल गेंद के खिलाफ उसे जूझना होगा. भारत पांच मैचों की सीरीज में 0-1 से पिछड़ रहा है और गावस्कर ने कहा कि पीछे होने के कारण भारत को लार्ड्स में अतिरिक्त बल्लेबाज के साथ उतरना चाहिए.

उन्होंने कहा, मैं चेतेश्वर पुजारा के रूप में लार्ड्स में एक और बल्लेबाज को खिलाऊंगा. उसके पास टेस्ट मैच के लिए जरूरी तकनीक और धैर्य है. वह किसकी जगह लेगा यह पिच पर निर्भर करेगा. अगर विकेट पर इतनी घास नहीं हो तो मैं उसे उमेश यादव की जगह चुनूंगा और हार्दिक पंड्या को टीम में बरकरार रखूंगा.