भारत की स्टार महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु (PV Sindhu) का कहना है कि वो टोक्यो ओलंपिक के एक साल तक के लिए स्थगित होने की खबर सुनने के लिए मानसिक रूप से तैयार थी। Also Read - आक्रामक स्वभाव के लिए मशहूर कगीसो रबाडा ने कहा- मैं जल्दी आपा नहीं खोता हूं

विश्व चैंपियन सिंधु ने हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में कहा, “जब मैं ओलंपिक के स्थगित होने की खबर सुनी तब मैं इसके लिए मानसिक रूप से तैयार थी। मैं इस साल ओलंपिक के आयोजन को लेकर आश्वस्त नहीं थी क्योंकि कोरोनावायरस से हर दिन एक नया देश इससे प्रभावित हो रहा है। ऐसी परिस्थिति में आप कुछ नहीं कर सकते है। जीवन पहले आता है।” Also Read - महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से अब तक 3,000 की मौत, मामले 83,000 के करीब पहुंचे

सिंधु और अन्य भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने अपना पिछला टूर्नामेंट ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में खेला था। इसके बाद विश्व बैडमिंटन महासंघ ने कोरोना के सभी टूर्नामेंट को स्थगित कर दिया था। सिंधु ने कहा कि जब चैंपियनशिप खेलने के लिए इंग्लैंड गई थी तो स्थिति उतनी भयानक नहीं थी जितनी कि अब है। Also Read - वैज्ञानिकों ने किया हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा का विश्लेषण, कोरोना मरीजों के इलाज में नहीं दिखा इस दवा का खास फायदा

उन्होंने कहा, “लेकिन जब हम वापस आए तो यह सब बदल गया। कोविड-19 संख्या में लगातार बढ़ोतरी होने लगी। अब तो स्थिति काफी बदतर हो गई है और मुझे याद नहीं है कि आखिरी बार कब हमें इतना लंबा ब्रेक मिला था। शायद कभी नही।”

सिंधु ने कहा कि इस ब्रेक के दौरान उन्होंने अब तक बैडमिंटन नहीं खेला है। विश्व चैंपियन ने कहा, “मैं कुछ व्यायाम कर सकती हूं। मेरे पास घर पर कुछ उपकरण हैं, इसलिए मैं एक-आध घंटे के लिए ट्रेनिंग करती हूं। घर तक ही सीमित रहना ठीक है। मैं घर पर ज्यादा काम नहीं करती, लेकिन मैं रसोई में मां की मदद करती हूं।”