सेंचुरियन: पाकिस्तान के कोच मिकी आर्थर को शुक्रवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट के तीसरे दिन टीवी अंपायर जोएल विल्सन द्वारा दिए गए विवादास्पद फैसले पर असहमति दिखाने के लिए अधिकारिक चेतावनी दी गई. इसके अलावा उन पर एक डिमेरिट अंक जुर्माना भी लगाया गया.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने मैच के बाद बयान जारी कर इसकी घोषणा की जिसमें दक्षिण अफ्रीका ने छह विकेट से जीत दर्ज की थी. बयान के अनुसार, ‘‘यह घटना दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी के दौरान नौंवे ओवर में हुई जब टीवी अंपायर जोएल विल्सन ने डीन एल्गर के पक्ष में फैसला दिया. इसके बाद आर्थर टीवी अंपायर के कमरे में घुसे और उन्होंने विल्सन के फैसले पर असहमति जताई. फिर वो सवाल पूछने लगे और तेजी से कमरे से बाहर निकल गए.’’

SA Vs PAK: पहले टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका की छह विकेट से जीत, अमला और एल्गर की हाफ सेंचुरी

इस मैच में दक्षिण अफ्रीकी टीम चौथी पारी में 149 रन के लक्ष्य का पीछा कर रही थी. डीन एल्गर और हाशिम अमला क्रीज पर थे. एल्गर ने शाहीन शाह अफरीदी की गेंद पर बल्ला अड़ाया और पहली स्लिप में खड़े अजहर अली ने डाइव करते हुए कैच पकड़ने का दावा किया. मैदानी अंपायर ब्रूस ऑक्सेनफोर्ड और सुंदरम रवि ने इस फैसले को टीवी अंपायर जोएल विल्सन को रैफर किया. सुपर स्लो क्लोज-अप सहित कई रिप्ले देखने के बाद विल्सन ने कहा कि गेंद बाउंस हुई थी और एल्गर आउट होने से बच गए. हालांकि, फील्ड अंपायर ने सॉफ्ट सिग्नल आउट का दिया था.

मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया को फॉलोऑन नहीं खिलाने का फैसला गलती नहीं, विराट की स्ट्रैट्जी है

आईसीसी के अधिकारी ने कहा, ‘‘मैच के बाद पाकिस्तानी कोच ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया और मैच रेफरी डेविड बून द्वारा लगाए गए जुर्माने को स्वीकार कर लिया. इसलिये अधिकारिक सुनवाई की जरूरत नहीं पड़ी.’’