नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय ने बीसीसीआई, आईपीएल के पूर्व चेयरमैन एन. श्रीनिवासन, कमिश्नर ललित मोदी तथा और अन्य पर विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) के उल्लंघन के लिए 121 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. प्रवर्तन निदेशालय ने यह जुर्माना दक्षिण अफ्रीका में हुए आईपीएल के दूसरे संस्करण के दौरान फेमा के उल्लंघन के लिए लगाया है.

एक अधिकारी ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय ने इस मामले में 121.56 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. उसने इस मामले में अपनी जांच जारी रखी है, जिसमें यह दर्शाया गया है कि 2009 में आईपीएल के दूसरे संस्करण की मेजबानी के लिए दक्षिण अफ्रीका को 243 करोड़ रुपये स्थानांतरित करने में विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) का कथित उल्लंघन किया गया था.

वेस्टइंडीज ने वर्ल्ड इलेवन को 72 रन से हराया, लुईस का तूफानी अर्धशतक

इस मामले में अधिकारी ने यह भी कहा कि एजेंसी ने बीसीसीआई पर 82.66 करोड़ रुपये, श्रीनिवासन पर 11.53 करोड़ रुपये, ललित पर 10.65 करोड़ रुपये, बीसीसीआई के पूर्व कोषाध्यक्ष एम.पी. पांडोव पर सात करोड़ रुपये और स्टेट बैंक ऑफ ट्रेवनकोर तथा प्रमुख प्रबंधक पर 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है.

एजेंसी के अधिकारियों के अनुसार, इस जांच से यह सामने आया है कि 2009 में क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के खाते में 243 करोड़ रुपये स्थानांतरित किए गए थे और यह धन सीएसए-आईपीएल के नाम पर सीएसए द्वारा खोले गए एक और समर्पित बैंक खाते में भेजा गया था.

टीम इंडिया के ‘नंबर 4’ की उलझन सुझायेंगे लोकेश राहुल, तैयार कर लिया ‘वर्ल्डकप 2019’ प्लान

अधिकारी ने कहा, “ऐसे में बीसीसीआई और सीएसए के बीच एक समझौते के आधार पर, बीसीसीआई ने इस विदेशी बैंक खाते के संचालन पर पूर्ण नियंत्रण का उपयोग किया, जिससे किसी भी भारतीय प्राधिकरण द्वारा इन खचरें की जांच से बचा जा सके.”