जोस बटलर (Jos Buttler) ने पाकिस्तान के खिलाफ पहले टेस्ट में इंग्लैंड को नाटकीय जीत दर्ज कराने में अहम भूमिका निभाने के बाद अपने पिता के स्वास्थ्य और टीम में अपना स्थान गंवाने को लेकर चिंता व्यक्त की। जिसके बाद इंग्लैंड के कप्तान जो रूट (Joe Root) ने उन्हें अपनी कैप उतारकर पहनाई और उनके जज्बे की प्रशंसा की। Also Read - 'वनडे-टी20 में ऑस्ट्रेलिया को हराना आसान लेकिन टेस्ट में जीत के लिए ख्यालों से बाहर आए टीम इंडिया'

बटलर ने तब क्रिस वोक्स के साथ 139 रन की भागीदारी निभायी जब टीम 117 रन पर पांच विकेट गंवाकर जूझ रही थी। उन्होंने 75 रन की पारी खेली लेकिन उन्होंने अपने पिता जॉनी के बारे में चर्चा नहीं की जिन्हें स्वास्थ्य सबंधित समस्या के कारण बीती शाम अस्पताल में बितानी पड़ी थी। Also Read - मोहम्मद शमी ने माना- आईपीएल प्रदर्शन ने इस आस्ट्रेलिया दौरे से दबाव हटा दिया

रूट ने इस मुश्किल समय में अपने साथी खिलाड़ी के मजबूत जज्बे के लिए प्रशंसा की। उन्होंने कहा, ‘‘बतौर इंसान ये चीज उसके बारे में काफी कुछ कहती है और वो जिस तरीके से खेला वो असाधारण था। इसके साथ ही बाहर का दबाव भी हो। मैं उससे बहुत खुश हूं।’’ Also Read - ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे, टेस्ट और टी20 तीनों सीरीज जीत सकती है टीम इंडिया: लक्ष्मण

बटलर के लिए ये पारी शानदार रही जो लंबे समय से बल्ले से जूझ रहे थे। आलोचक उन्हें टीम से बाहर करने की बातें कर रहे हैं और उनकी बल्लेबाजी के लचर प्रदर्शन के अलावा विकेटकीपिंग के दौरान भी वो पाकिस्तान की पहली पारी में तीन मौके चूक गए जिसमें से एक शतक जड़ने वाले शान मसूद का था।

लेकिन उन्होंने क्रिस वोक्स के साथ मिलकर टीम को जीत तक पहुंचाया। रूट ने वोक्स की भी तारीफ करते हुए कहा, ‘‘आप उसे खेलते हुए देखते हो तो आपको लगता है कि वो तीन या चार से ज्यादा टेस्ट शतक जमाने से ज्यादा काबिल है। उसका खेल शानदार है। उसे पता था कि उसे यासिर शाह को कैसे खेलना है और उसने तेज गेंदबाजों का अच्छी तरह सामना किया।’’