कोरोना संकट (Covid-19) के बीच इंग्‍लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने वेस्‍टइंडीज के खिलाफ अपने घर पर टेस्‍ट सीरीज का आयोजन कर एक बार फिर अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत की. इसके बाद पाकिस्‍तान और फिर ऑस्‍ट्रेलिया ने इंग्‍लैंड का दौरा किया. धीरे-धीरे क्रिकेट तो पटरी पर लौट रहा है लेकिन खाली स्‍टेडियम में हो रहे मैच और स्‍पॉन्‍सर्स की कमी के कारण ईसीबी आने वाले समय में पड़े पैमाने पर अपने बजट और स्‍टाफ में कटौती करने जा रहा है. Also Read - IPL 2020 के बाद यूएई में ही खेली जाएगी भारत-इंग्लैंड सीरीज

इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) कोविड-19 महामारी के कारण हुए 10 करोड़ पाउंड (लगभग साढ़े नौ अरब रूपये) का नुकसान झेलने के कारण 20 प्रतिशत कार्यबल कम करने की योजना बना रहा है. Also Read - T20 Blast: ऑलराउंउर डेविड विली हुए कोरोना संक्रमित, लीग मैच से हुए बाहर

ईसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टॉम हैरिसन ने बजट की व्यापक समीक्षा करने के बाद कहा कि अगर महामारी का प्रकोप अगले साल भी जारी रहा तो यह राशि 20 करोड़ पाउंड (लगभग 19 अरब रूपये) तब बढ़ सकती है. Also Read - पाकिस्‍तान के खिलाफ सीरीज बीच में ही छोड़कर न्‍यूजीलैंड जाएंगे बेन स्‍टोक्‍स, ECB ने बताई वजह

हैरिसन ने बोर्ड के कार्यबल बजट में 20 प्रतिशत की कटौती का प्रस्ताव रखा, जिसका मतलब हुआ कि ईसीबी 62 भूमिकाएं खत्म करेगा.

हैरिसन ने एक बयान में कहा, ‘‘ इन प्रस्तावों में हमारे कार्यबल के बजट में 20 प्रतिशत की कटौती शामिल है, जो हमारी संरचना से 62 भूमिकाओं को हटाने के बराबर है.’’

मौजूदा चुनौतियों के बाद भी इंग्लैंड इस महामारी के दौरान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट फिर शुरु करने वाले पहला देश बना. उसने वेस्टइंडीज, आयरलैंड, पाकिस्तान और अब ऑस्ट्रेलिया के साथ जैव सुरक्षित माहौल में श्रृंखलाओं का आयोजन किया.