अमेरिका में पुलिस कस्‍टडी में अश्‍वेत व्‍यक्ति की मौत के बाद से ही उनकी सुरक्षा का मुद्दा गरमाया हुआ है. इसी कड़ी में इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर फिल डीफ्रेट्स (Phillip DeFreitas) ने अपने खेल के दौरान नस्लभेद का सामना करने की घटनाओं को एक बार फिर से याद किया है.Also Read - पांचवें एशेज टेस्ट में शून्य पर रन आउट हुए रोरी बर्न्स को रिकी पॉन्टिंग ने लगाई फटकार

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के लिए 103 वनडे और 44 टेस्ट मैच खेलने वाले डीफ्रेट्स (Phillip DeFreitas) ने कहा कि इससे उन्हें राष्ट्रीय टीम के साथ आगे बढ़ने में कठिनाई हुई. ” मुझे हमेशा लगता था कि एक श्वेत व्यक्ति के रूप में मुझे दो बार अच्छा होना था, जोकि मेरे लिए काफी दुख की बात है. ” Also Read - रिटायरमेंट लेने के बाद जेम्स एंडरसन को इंग्लैंड टीम का गेंदबाजी कोच बनाए ECB: एलेस्टेयर कुक

उन्होंने कहा, ” मुझे कभी स्वागत जैसा महसूस नहीं हुआ. हमेशा लगता था कि प्रत्येक मैच मेरा अंतिम मैच है. मैं इंग्लैंड की ओर से खेलने के लिए बेताब था और इसने मुझे टीम में बनाए रखा.” Also Read - Ashes 2021-22: पांचवें एशेज टेस्ट से बाहर हुए जॉश हेजलवुड, न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज में कर सकते हैं वापसी

पूर्व क्रिकेटर फिल डीफ्रेट्स (Phillip DeFreitas) ने साथ ही कहा कि राष्ट्रीय टीम के लिए खेलने को लेकर उन्हें जान से मारने तक की धमकी भी मिली थी. ” मुझे नफरत भरा पत्र प्राप्त हुआ था. यह एक बार नहीं, दो से तीन बार मुझे मिला था. इसमें लिखा था-अगर तुम इंग्लैंड के लिए खेलते हो तो हम तुम्हें मार देंगे. मुझे कोई मदद नहीं मिली. किसी ने मेरा समर्थन नहीं किया. मुझे खुद इससे लड़ना था. यह मेरे लिए थोड़ी दुख की बात थी.”