नई दिल्ली : पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप 2019 के अपने दूसरे मैच में अप्रत्याशित हार झेलने के बाद इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन ने माना कि उनकी टीम को खराब फील्डिंग का खामियाजा भुगतना पड़ा. टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का निर्णय लेते हुए मेजबान टीम ने पाकिस्तान द्वारा दिए गए 349 रनों के लक्ष्य का पीछा किया, लेकिन वे 14 रनों सक चूक गए और निर्धारित 50 ओवर में नौ विकट खोकर 334 रन बनाए.

इंग्लैंड के जेस रॉय ने मोहम्मद हफीज का कैच छोड़ दिया जिन्होंने 62 गेंदों पर 84 रनों की साझेदारी की और अपनी टीम को 350 के करीब ले जाने में अहम भूमिका निभाई. रॉय के अलावा अन्य खिलाड़ी भी मैदान पर अपना 100 प्रतिशत नहीं दे पाए.

एक क्रिकेट न्यूज वेबसाइट ने मॉर्गन के हवाले से बताया, “मैं नहीं समझता हूं कि हमारा दिन खराब था. हमारी फील्डिंग खराब रही. फील्डिंग एक एटिट्यूट वाली बात होती है.” मॉर्गन ने कहा, “हमें फील्ड पर अपने एटिट्यूट में बदलावा लाना है और अपने अंदर सकारात्मकता लानी है जिससे हम हर चीज में अपना 100 प्रतिशत दें. हमें निडर होना होगा ताकि हम मौके गंवाने की बजाए मौके बनाएं.”

विश्वकप 2019: विवादों में घिरी टीम इंडिया, मीडिया ने किया प्रेस कॉन्फ्रेंस का बहिष्कार

कप्तान हालांकि, टीम की बल्लेबाजी और गेंदबाजी से संतुष्ट नजर आए. मॉर्गन ने कहा, “गेंद के साथ हम उन्हें रोकने में कामयाब रहे और हमें यह भी ध्यान में रखना हेागा कि विकेट अच्छी थी एवं आउट फील्ड बहुत तेज थी. जोस बटलर और जोए रूट के बीच हुई साझेदारी ने भी हमें मैच में बेहतर स्थिति में पहुंचा दिया.”

पाकिस्तानी टीम पर लगा जुर्माना, इंग्लैंड के खिलाफ की थी ये गलती

उन्होंने कहा, “उन्होंने शानदार बल्लेबाजी की और हमें मुकाबले में बनाए रखा. उन्हें शीर्ष चार या छह या नीचे के बल्लेबाजों की मदद चाहिए. ओवल पर हमने बेहतरीन फील्डिंग की लेकिन इस मैच में वो बहुत खराब रही. इससे हमें करीब 15-20 रनों का नुकसान हुआ और हम जीत से 14 रन पीछे रह गए.”