लीड्स: मार्नस लाबुशेन (80) शतक बनाने से चूक गये लेकिन उनकी दमदार पारी की मदद से आस्ट्रेलिया ने तीसरे एशेज टेस्ट के तीसरे दिन शनिवार को लंच तक इंग्लैंड के खिलाफ मैच पर अपनी पकड़ काफी मजबूत कर ली. पहली पारी में 74 रन की शानदार पारी खेलने वाले लाबुशेन ने दूसरी पारी में 80 रन बनाये. आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में 246 रन पर सिमटी. श्रृंखला के दूसरे मुकाबले में स्थानापन्न खिलाड़ी के तौर पर दूसरी पारी में मैदान पर उतरने वाले लाबुशेन की यह लगातार तीसरी अर्धशतकीय पारी है.

 

इंग्लैंड को जीत के लिए 359 रन का मुश्किल लक्ष्य मिला है. आस्ट्रेलियाई टीम अगर इस मुकाबले को जीत जाती है तो पांच मैचों की श्रृंखला में उसे 2-0 की बढ़त मिल जायेगी और वे एशेज ट्राफी को अपने पास रखेंगे. हेडिंग्ले के मैदान पर सिर्फ तीन बार किसी टीम का चौथी पारी में 300 से ज्यादा रन का लक्ष्य हासिल करने का रिकार्ड है. आस्ट्रेलिया (1948 में तीन विकेट पर 404), इंग्लैंड (2001 में चार विकेट पर 315 रन) और वेस्टइंडीज ने दो साल पहले पांच विकेट पर 322 रन बनाये थे. लंच के समय इंग्लैंड का स्कोर बिना किसी नुकसान के 11 रन था.


आस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत छह विकेट पर 171 रन से की जब लाबुशेन 53 रन और जेम्स पैटिनसन दो रन बनाकर खेल रहे हैं. लाबुशेन ने दिन की शुरूआत स्टुअर्ट ब्राड की गेंद पर शानदार चौके के साथ की. इसके बाद हालांकि उन्हें भाग्य का साथ भी मिला जब विकेटकीपर बेयरस्टा ने उनका मुश्किल कैच छोड़ दिया. उन्हें इससे पहले 14 और 42 रन पर भी जीवनदान मिला था. लाबुशेन और पैटिनसन की सातवें विकेट के लिए 51 रन की साझेदारी को जोफ्रा आर्चर ने तोड़ा.


लाबुशेन जब 70 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे तब आर्चर की गेंद उनके हेलमेट में लगी लेकिन उन्होंने इसके बाद अपरकट से चौका लगाकर दवाब कम किया. लाबुशेन की 80 रन की पारी का अंत रन आउट से हुआ. नाथन लियोन (नौ) आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे जो जोफ्रा आर्चर का शिकार बने. इंग्लैंड के लिए तीन विकेट लेने वाले बेन स्टोक्स सबसे सफल गेंदबाज रहे. आर्चर और ब्राड को दो-दो सफलता मिली.