ऑस्‍ट्रेलियाई टीम में विस्‍फोटक बल्‍लेबाज के रूप में सक्रिय रहे ग्‍लेन मैक्‍सवेल (Glenn Maxwell,) अब एक गेंदबाज के रूप में अपना आगे का करियर देखते हैं. वो आईपीएल में प्‍लेयर ऑफ द टूर्नामेंट भी रह  चुके हैं. मैक्सवेल ने कंगारू टीम में अपना आखिरी वनडे पिछले साल विश्व कप सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था, जबकि उन्होंने अपना आखिरी टी20 पिछले अक्टूबर में श्रीलंका के खिलाफ खेला था. Also Read - ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड सीरीज में चमके ये आईपीएल सितारे; 13वें सीजन में करेंगे धमाल

लगातार खराब प्रदर्शन के कारण ग्‍लेन मैक्‍सवेल के लिए अब ऑस्‍ट्रेलियाई टीम में जगह बना पाना भी मुश्किल साबित हो रहा है. इंग्‍लैंड दौरे पर गई ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के स्‍क्‍वाड में मैक्‍सवेल को भी जगह दी गई है. Also Read - इंग्लैंड के खिलाफ मैच में शतक जड़ ग्लेन मैक्सवेल ने तोड़ा बटलर का रिकॉर्ड

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो ने मैक्सवेल के हवाले से लिखा है, “जब मैं बाहर था तब मैंने अपनी गेंदबाजी पर काफी काम किया है. मैं वो असल ऑलराउंडर बनना चाहता हूं जो गेंदबाजी भी कर सके और छह, सात, आठ ओवर फेंक मुख्य गेंदबाजों से भार को हटा सके.” Also Read - इंग्लैंड के खिलाफ जीत के नायक रहे मैक्सवेल ने कहा- खोने के लिए कुछ नहीं बचा था

उन्होंने कहा, “2015 में मैं टीम में इकलौता स्पिनर हुआ करता था और मुझपर काफी कुछ निर्भर था. मैं अपनी उसी स्थिति में वापसी की कोशिश कर रहा हूं जहां मैं लगातार गेंदबाजी कर सकूं और टीम की मदद कर सकूं.”

मैक्सवेल ने 2016 के बाद से सिर्फ पांच विकेट ही लिए हैं. इंग्‍लैंड दौरे पर वनडे और टी20 मैच की सीरीज खत्‍म होने के बाद ग्‍लेन मैक्‍सवेल आईपीएल खेलने के लिए सीधे यूएई पहुंचेंगे. वो आईपीएल के शुरुआती मैचों का हिस्‍सा नहीं बन पाएंगे.