इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने 50 ओवर के प्रारूप को अधिक प्रासंगिक बनाने के लिए सुपर लीग शुरू की है जो भारत में 2023 में होने वाले विश्व कप का क्वालीफायर (World Cup Super League 2023) है. इंग्लैंड और आयरलैंड के बीच 30 जुलाई से शुरू हो रही तीन मैचों की वनडे सीरीज में टेलीविजन अंपायर ‘फ्रंट-फुट नो बॉल’की निगरानी करेंगे और विश्व कप सुपर लीग के तहत खेली जा रही इस सीरीज में धीमी गति से गेंदबाजी करने वाली टीम के अंक काटे जाएंगे. Also Read - England vs Ireland 2020 : आयरलैंड के युवा ऑलराउंडर कुर्टिस कैंफर ने रचा इतिहास, हासिल की ये बड़ी उपलब्धि

‘फ्रंट-फुट नो बॉल (Front Foot No Ball) पर विशेष रूप से नजर रखी जाएगी’ Also Read - England vs Ireland 2nd ODI : शतक से चूके जॉनी बेयरस्टो, इंग्लैंड ने आयरलैंड को 4 विकेट से हरा जीती सीरीज

वेबसासइट ‘ईएसपीएन क्रिकइंफो’के मुताबिक टेलीविजन अंपायर द्वारा फ्रंट-फुट नो बॉल (Front Foot No Ball) पर विशेष रूप से नजर रखी जाएगी. पिछले साल भारत-वेस्टइंडीज की सीमित ओवरों की सीरीज  के दौरान आईसीसी ने फैसला किया था कि फ्रंट-फुट नो बॉल पर टीवी अंपायर नजर रखेंगे और फैसला देंगे. Also Read - England vs Ireland 2020, 1st ODI : डेविड विले की करियर बेस्ट गेंदबाजी के दम पर कोरोनाकाल के पहले वनडे में इंग्लैंड ने मारी बाजी

सीमित ओवर के क्रिकेट में फ्री-हिट का काफी महत्व है

वेबसाइट के मुताबिक आईसीसी महाप्रबंधन (खेल संचालन) ज्यौफ एलार्डिस ने कहा, ‘यह कुछ ऐसा है जिसका गुरुवार (England vs Ireland) को और सीरीज में इस्तेमाल किया जाएगा.’

उन्होंने कहा, ‘सीमित ओवर के क्रिकेट में फ्री-हिट का काफी महत्व है इसलिए नो बॉल के बारे में सटीक तरीके से पता चलना जरूरी है. यह एक महत्वपूर्ण विशेषता (नो बॉल के बाद फ्री-हिट) मानी जाती है. क्रिकेट समिति ने विश्व कप सुपर लीग के लिए नियमों में इसकी सिफारिश की हैं.’